प्रिय अतिथि,

अँजोरिया के पन्ना पर राउर स्वागत बा.

कई बेर महसूस कइले बानी कि कुछ पाठक पाठिका कुछ कहल चाहेलें, आपन बात, आपन विचार वगैरह आ उनुका पता ना चले कि कहाँ आपन बात कहसु. अलग अलग पोस्ट पर कमेंट ओह पोस्ट से जुड़ल होखे के चाहीं बाकिर अगर ओह पोस्ट से ना जुड़ल होखे तब कहवाँ लिखल जाव?

एही जरूरत के पूरा करे खातिर एह पेज के बनावल गइल बा. एहिजा रउरा आपन कविता, कहानी, गीत, रचना छोड़ आपन हर तरह के विचार एहिजा जाहिर कर सकीलें. बात भोजपुरी से जुड़ल होखे भा देश समाज से, फिलिम से भा गीत गवनई से, टीवी से भा राजनीति से. एह पेज पर पूरा आजादी बा आपन बात कहे के.

संपादक के काम अतने भर देखे के बा कि भाषा संयत बा, फूहड़ शब्द भा गाली गलौज के इस्तेमाल नइखे भइल, केहु पर व्यकिगत लाँछन नइखे, केहू के छीछालेदर नइखे नइखे कइल जात. ओकरा बाद राउर टिप्पणी जस के तस प्रकाशित कर दिहल जाई. साथही इहो देखल जाई कि टिप्पणी कवनो उद्देश्य से कइल गइल बा, आपन फोन नं॰, इमेल वगैरह छपवावे खातिर ना. ई सुविधा राउर राय जाने आ बतावे खातिर दिहल गंइल बा, एकरा के हमेशा ध्यान में राखीं.

अगर प्रकाशित होखे में देर लागत होखे त इंतजार करीं. बार बार पोस्ट करे के जरूरत नइखे. काल्हु जब देखे आइब त ऊ पोस्ट प्रकाशित मिली.

सादर सप्रेम,
राउर,
संपादक

Advertisements