– पाण्डेय हरिराम बाईबिल के एगो कहना ह कि “हू लिव्स बाई सोर्ड, डाइज बाई सोर्ड”. माने कि तलवार का भरोसे जिये वाला तलवारे से मारल जाला. बदनाम माओवादी नेता एम कोटेश्वर राव उर्फ किशनजी का मामिला में ई बात बहुते सही उतरल. मेदिनीपुर का जंगल में पुलिस आ अर्द्धसैनिकपूरा पढ़ीं…

Advertisements

सीमा सिंह को मिला आइटम क्वीन का ताज अब खतरे में नज़र आने लगा है ..क्यूंकि अब सभी आइटम गर्ल्स की छुट्टी करने आ गई है गबरू बाई ! इनके साइज पर मत जाइए. ये बाई अपनी अदाओं से सबकी छुट्टी कर सकती है. गबरू बाई का दावा है किपूरा पढ़ीं…

कुंठित और कुत्सित मानसिकता की उपज के रूप में बदनाम भोजपुरी सिनेमा सचमुच ही संक्रमण काल के दौर से गुजर रहा है. करोड़ों का राजस्व देनेवाली भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री एक अदद पारिवारिक-सामाजिक श्रेणी की ऐसी फिल्म देने में नाकाम हो रही है, जिसे उल्लास के साथ कोई भी दर्शक अपनेपूरा पढ़ीं…

सागर फिल्म्स कम्बाईन एवं लव आर्ट फिल्म्स की संयुक्त प्रस्तुति और निर्माता आर.डी. चौहान, महेश जी. थांटीकोण्डा एवं अर्जुन जी. थांटीकोण्डा की भोजपुरी फिल्म ‘शनिबाबा रखिहऽ लाज हमार’ के सभी आठ गाने रिकार्ड कर लिए गए हैं. अशोक घायल, फणीन्द्र राव और सुमित कुमार श्रीवास्तव के लिखे गीतों को ए.बी.पूरा पढ़ीं…

बाँझ का जनिहें प्रसवती के पीड़ा ? बच्चा जने में होखे वाला दरद ओही औरत के समुझ में आ सकेला जे कबो खुद बच्चा जनले होखे. बूझेले चिलम जिनका पर चढ़ेला अँगारी. जे हालात के गरमी झेलेला ओकरे ओकर पीड़ा बुझाला. भोजपुरी के ई दुनु कहाउत आजु एह चलते यादपूरा पढ़ीं…

आजु जब लिखे बइठल बानी त छठ व्रत के परसाद सामने आ खरना शब्द दिमाग में बा. खरना मतलब खरो ना, कवनो तिनको ना. अइसन उपवास. बाकिर खर दुष्टो के कहल जाला. आ आखर कहल जाला उबड़ खाबड़ भा रगड़त चीझ के. अब सोचीं कि खर, खरना, आखर में कवनपूरा पढ़ीं…

– जयंती पांडेय आजु करप्शन के नांव पर उहे लोग हो-हल्ला मचा रहल बा, जेकरा करप्ट होखे के मौका ना मिलल. जसहीं मौका मिली, ऊ आपन ओठ सी लिहें. ई रीति जमाना से स चलि आ रहल बिया. लोग भ्रष्टाचार के विरोध करत समय ई ताक में लागल रहे लापूरा पढ़ीं…

भोजपुरी सिनेजगत में काफी दिनों के बाद फिल्म ‘‘बूटन’’ को सेंसर बोर्ड ने U/A सर्टिफिकेट देते हुए कहा कि भोजपुरी में कोई तो फिल्म बनी है जो साफ सुथरी और सम्पूर्ण परिवार के साथ देखने योग्य है. यह फिल्म बिना एक भी कट के सेंसर बोर्ड द्वारा पास की गयी.पूरा पढ़ीं…

चीन के निर्माता के. एस. टेन्ग द्वारा निर्मित, पोलोनिया एन्टरटेनमेन्ट के बैनर तले निर्माणाधीन फिल्म ’’चुन्नूबाबू सिंगापुरी’’ का गीत रिकार्डिंग मुंबई के एम4यू स्टूडियों में संपन्न हुआ. इस फिल्म का टाइटल गीत खुद चुन्नूबाबू सिंगापुरी ने ही गाया है, जिसमें उन्होंने पहली बार भोजपुरी सिने संगीत जगत में ‘‘फोक’’ केपूरा पढ़ीं…

मन्तोष फिल्म प्रोडक्शन के बैनर तले निर्मित फिल्म ‘‘प्रीत ना जाने कवनो रीत’’ जल्द ही बिहार के सभी सिनेमाघरों में प्रदर्शित की जायेगी. यह फिल्म ऊँच-नीच, जाति-पाँति जैसी लाईलाज बीमारिओं पर कुठाराघात करती है. इस फिल्म के निर्माता-निर्देशक-मंतोष पंडित, सह-निर्माता- रामेश्वर पंडित. गीत लिखे हैं आर. के. हरियाणवी, अरूण तिवारीपूरा पढ़ीं…

गायन के क्षेत्र में अपनी साख जमाने के बाद से ही ‘‘बिरहा सम्राट’’ ओमप्रकाश सिंह यादव का सपना रहा था फिल्मी सुनहरे पर्दे पर अपना हुनर दिखाने का. मगर एक गरीब परिवार में जनमे ओमप्रकाश सिंह यादव के लिए ये सपना ही रह गया था. पर कहते हैं कि ‘‘होनहारपूरा पढ़ीं…