डॉ. नंदकिशोर तिवारी द्वारा संस्कृत के कवि भास के भोजपुरी में अनूदित कुछ नाटक डॉ. नंदकिशोर तिवारी संस्कृत के कवि भास के एगारह गो नाटकन के भोजपुरी में अनूदित कर चुकल बानी. ई सभ नाटक रोहतास जिला भोजपुरी साहित्य परिषद, निराला साहित्य मंदिर, बिजली शहीद, सासाराम, रोहतास (बिहार) से प्रकाशितपूरा पढ़ीं…

Advertisements

भोजपुरी सिनेमा के गायिकी के सिरमोर आ यंग्रीयंग मैन पावरस्टार पवन सिंह के बहुचर्चित भोजपुरी फिलिम ‘सत्या’ के पहिलका झलक पिछला दिने म्यूजिक कंपनी वेभ का तरफ से जारी हो गइल. सत्या के एह पहिला झलक में पवन सिंह के एक्शन भरल बा. पोस्टर पर पवन सिंह का एक्शन अवतारपूरा पढ़ीं…

खेसारी लाल के नया भोजपुरी फिलिम ‘बाबरी मस्जिद’ के पहुलका झलक पिछला दिने मुम्बई में जारी हो गइल. एक तरफ आजुकाल्हु खेसारी लाल के फिलिम ‘मेहंदी लगाकर रखना’ बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचवले बिया ओहीजे दोसरा तरफ माँ केला देवी फिल्म के बैनर तर बनल भोजपुरी फिलिम ‘बाबरी मस्जिद’ केपूरा पढ़ीं…

– शिवानंद मिश्र ‘शिकारी’ बाबा अड़भंगी जेकर, बीर बजरंगी जेकर टहटह चुनरिया, सतरंगी भोजपुरी ह । भृगुजी के संगी हउए, गोरख के सरंगी हउए, बाबा विश्वामित्र अस बुढंगी भोजपुरी ह । कुअर के तेगा नंगी, कंपले फिरंगी देखी, मंगल के आखाड़ा के लंगी भोजपुरी ह । तुलसी, कबीर, सुर, निर्मलपूरा पढ़ीं…

– ओ. पी. सिंह एगो पुरान गीत के मुखड़ा आजु याद आ गइल. इयरवा से लागल बाटे इयरिया घरवा का चोरिया-चोरिया ना. अब चुनाव का माहौल में इयार के इयारी के चरचा से ई मत बूझीं सभे कि हम वेलेंटाइन डे के कवनो चरचा करे जात बानी. हमनी किहाँ तपूरा पढ़ीं…

भोजपुरी के कुछ ऑफलाइन पत्रिका भोजपुरी के कुछ पत्रिका, जवन ऑनलाइन नइखी सन. एहमें से जो कवनो पत्रिका, ऑनलाइन होई त हमरा जानकारी में नइखे आ खुशी के विषय होई हमनी खातिर. एहमें से दु-तिन गो पत्रिकनके प्रकाशन थथमल बा भा फिलहाल हमरा जानकारी में नइखे. – डॉ. रामरक्षा मिश्रपूरा पढ़ीं…

          डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल के डायरी बगसर बिसरत नइखे ए पारी के जाड़ा के छुट्टी के बहुत उत्साह रहे. बहुत दिन बाद, लगभग 30-31बरिस बाद 24 दिसंबर के भारवि जी (अरुणमोहन भारवि) से मुलाकात भइल. घंटों बतियावल आदिमी. बात ना ओराइ आ टाइम जल्दी-जल्दी बीतलपूरा पढ़ीं…

भोजपुरी आज दुनिया के सोलह गो देश में आ देश के कई राज्य – बिहार, यू.पी., दिल्ली, मध्य प्रदेश, झारखंड, छतीसगढ़, महाराष्ट्र, गुजरात वगैरह में करोड़ो लोग द्वारा बोलल जाता बाकि अबही ले एकरा के संविधान में दर्जा ना मिलल. जबकि एकरा से कम बोलेवाला भाषवन के संविधान के आठवींपूरा पढ़ीं…

– अशोक द्विवेदी ओढ़नी पियर, चुनरिया हरियर / फिरु सरेहि अगराइल जाये क बेरिया माघ हिलवलस, रितु बसन्त के आइल! फुरसत कहाँ कि बिगड़त रिश्ता, प्रेम पियाइ बचा ले सब, सबका पर दोस मढ़े अरु मीने-मेख निकाले सीखे लूर नया जियला के, उल्टे बा कोहनाइल !! क्रूर-समय का अँकवारी में,पूरा पढ़ीं…

– ओ. पी. सिंह भारत में मोदी आ अमेरिका में ट्रम्प. दूनू जने के राशि एके होखे के चाहीं. काहें कि दूनू के जीत के कहानी करीब-करीब एके जइसन बा. जब मोदी अपना गोल के नेता बने के इरादा जतवलन त पहिले से जमल नेता पूरा कोशिश क देखवलें किपूरा पढ़ीं…