Advertisements

Author: Editor

वोट बैंकिंग अमर रहे ! – बतंगड़ 68

Advertisements

Read More

डॉ. कमल किशोर सिंह के दू गो कविता

– डॉ. कमल किशोर सिंह (1) पाला साल बीतते फेरु से पडे़ लागल जाड़ा. लागेला हमरा के मारी देलस पाला. मन घास पात अस मऊरा कठुआ जाला रूई आ धुईं से ना मन गरमाला. देखते ही बहरी देह बऱफ बन जाला. कहाँ जाई , का करीं, कुछो ना बुझाला . बाकी फूटते किरिनिया , मन बरफ पिघल जाला . बहे लागेला बहरी देखे गड़हा ना नाला , गह गह लागेला चमके जइसे घासफूस लहलहाला. बाकी फूटते किरिनिया , मन बरफ पिघल जाला. (2) नयका साल एक साल अउर सरक गइल , कुछ छाप आपन छोड़ि के. भण्डार भरि के...

Read More

सहलऽ काहें ? मरउव्वत में – बतंगड़ 67

– ओ. पी. सिंह आजु अगर हम मौनी बाबा के वन्दना कइला बिना आपन बतंगड़ शुरु क दीं त ऊ बहुत बड़ अपराध हो जाई. मौनी बाबा जबले कुरसी धइले रहलन तबले उनुका मुँह से एगो बकार ना फूटत रहुवे. उनुका बारे में कहल गइल कि रेनकोट पहिर के नहात रहलें आ खूबे नहइलें. लूटे वाला लाखों-करोड़ों लूट ले गइलें आ ऊ अपना मौन बरत प बरकरार रहलें. बरीसन के अनुभव उनुका लगे रहुवे कि कइसे अपना सगरी पाप के घइला दोसरा का माथे फोड़ सकेलें आ बहुते खूबसूरती से ऊ आपन कारनामा क देखवलें. करोड़ों के घोटाला भइल...

Read More

ना खुदा ही मिला ना बिसाले सनम – बतंगड़ 66

– ओ. पी. सिंह केन्द्र के केबिनेट त तिलाक का खिलाफ बने वाला तलाक के मंजूरी दे दिहलसि बाकिर ई कानून मुसलमाने प लागू होखे वाला बा. अपना के हिन्दू कहे बतावे वाला जनेऊधारी बरहमन लोग के दिहल तिलाक का खिलाफ एह कानून के इस्तेमाल ना हो पाई आ ई जान सुन के जनेऊधारी बरहमन के गोल के राहत मिल गइल बा. अबकी का गुजरात चुनाव में जवना तरह से मुस्लिम जमात के तिलाक द् दीहल गइल ओह तरह के अनेत कबो ना भइल रहुवे. गुजरात के गोथरा का बाद भड़कल बरीस 2002 का दंगा का बाद से अबहीं...

Read More

राजनीति में नीचतई आ कि नीचतई में राजनीति – बतंगड़ 65

– ओ. पी. सिंह राजनीति में नीचतई के कवनो सीमा ना होखे. आ दिन प दिन ई अउरी नीचे गिरल जात बा. गुजरात के चुनाव कांग्रेस आ भाजपा का बीच में नाक के लड़ाई बनि गइल बा. हज का भरोसे निकलल कांग्रेस मुतमइन रहुवे कि अबकी गुजरात में ओकर सरकार बनि जाई आ बबुआ के ताजपोशी का बाद ई उनुका ला सबले बड़का उपहार हो जाई आ उनुकर तुतुही दुनिया भर में बाजे लागी. बाकी जस-जस दिन आगे बढ़ल तस-तस कांग्रेस का बुझाए लागल कि ई सिरफल फोड़ल ओकरा बेंवत में नइखे. राम जी के होखले से इन्कार करे...

Read More

तोहरा ले बढ़िया हिन्दू हम – बतंगड़ 64

– ओ. पी. सिंह देश कहवाँ सा कहवाँ आ गइल. चरखाना वाला गमछी आ जालीदार टोपी पहिरल अब आउट आफ फैशन हो गइल आ कुर्ता का उपर से जनेऊ पहिरे के जमाना आ गइल. एह हिन्दू जगरम के शुरुआत करे वालन में राहुल गाँधी के नाम सबले खास हो गइल बा आ कम से कम एह मामिला में हिन्दूवादियन के चाहीं कि उनुका के एकर मान देसु. अबहीं ले ई पता ना रहुवे कि राहुल गाँधी के मजहब, रिलीजन, भा पंथ का ह. केहू उनुका के खान मानत रहल त केहू ईसाई. बहुत कमे लोग उनुका के हिन्दू मानत...

Read More

देशद्रोही के ताजपोशी – बतंगड़ 63

– ओ. पी. सिंह राष्ट्रवादी भा भक्त भइल खराब बाति ना होखे बाकिर गुजरात चर्च के माथ अधिकारी, जिनका के आर्कबिशप के पदनाम से जानल जाला, एकरा के पाप का तरह मानेलें. पिछला दिने बाकायदा चिट्ठी लिख के ऊ सगरी ईसाईयन के आदेश दिहले बाड़न कि गुजरात चुनाव में राष्ट्रवादियन का खिलाफ भोट डाले लोग. उनुका एह बाति के फिकिर ध लिहले बा कि गँवे-गँवे पूरा देश राष्ट्रवादियन के प्रभाव में जाए लागल बा आ अगर गुजरात में ई लोग फेरु जीत गइल त राष्ट्रद्रोहियन के जीयल मुश्किल हो जाई. अब कवनो धर्माधिकारी एह तरह के बाति करे त...

Read More

अदालत, आयोग आ बोर्डो ले बड़ हो गइल मीडिया के मूड – बतंगड़ 62

– ओ. पी. सिंह पिछला दिने मूडी कुछ लोग के मूड बिगाड़ दिहलसि. कहलसि का, से सभे अपना-अपना मूड से समुझल. मियाँ बूझले पियाज त मियाइन बूझली अदरख. जेकरा शास्त्र के अर्थ ना बुझाव उहो अर्थशास्त्री बनि के बहस करे लागल. मूडी से कुछ लोग के मूड बिगड़ल त ऊ लोग पुअर का स्टैण्डर्ड पर आपन तर्क जोड़े लागल. काहे कि स्टैण्डर्ड एण्ड पुअर का नजर में भारत के हालात पहिलहीं जस बनल बा. हिन्दुस्तान आ हिन्दुवन के विरोध करे वालन के चहबो इहे करी कि भारत के स्टैण्डर्ड पुअरे बनल रहो. साठ बरीस ले सरकार चला के आपन...

Read More

दिल्ली के संसद मार्ग पर होई भोजपुरिया जुटान

भोजपुरी खातिर विशाल धरना प्रदर्शन 21 फरवरी 2018 के भोजपुरी के संवैधानिक मान्यता आ आठवीं अनुसूची में शामिल करावे खातिर “भोजपुरी जन जागरण अभियान” के बैनर तले राष्ट्र स्तर पर चलावाल जा रहल भोजपुरी भाषा मान्यता आंदोलन के तहत आगामी 21 फरवरी 2018, दिन बुधवार के आठवाँ विशाल धरना प्रदर्शन के आयोजन अभियान के राष्ट्रीय अध्यक्ष संतोष पटेल के नेतृत्व में दिल्ली के संसद मार्ग पर कइल गइल बा।दिल्ली से एगो प्रेस रिलीज के माध्यम से राष्ट्रीय अध्यक्ष संतोष पटेल जी जानकारी दिहनी। बतावत चली कि भोजपुरी भाषा मान्यता आंदोलन “भोजपुरी जन जागरण अभियान” देश भर मे भोजपुरी के...

Read More

रानी मधुमाखी आ तेजपत्ता के स्वाद – बतंगड़ 61

– ओ. पी. सिंह एगो पुरान कहाउत ह कि बाँझि का जनिहें परसवती के पीड़ा. आ हम सोचत बानी कि ई सवाल बाँझिने से काहें पूछल गइल. परसवतिओ के त ना मालूम होला बाँझिन का पीड़ा. बाकिर चुँकि बाँझिन असहाय होले त ओकरा प कहाउत कहल आसान होला. आ एही से इहो कहाला कि समरथ के ना दोष गुसाँई. रानी मधुमाखीओ अइसने समरथ में गिनल जाले. ओकर जी हुजूरी करे वाला हजारन मजदूर माखी होली सँ. ओकरा छत्ता भा किला में कवनो राजा मधुमाखी के चरचो ना होले. जबकि मजदूर मधुमाखियन के जनमावें में थोड़ बहुत योगदान त ओकरो...

Read More
Advertisements

Categories