Author: OmPrakash Singh

बतकुच्चन ‍ – ८२

“छोड़ु छोड़ु मखिया रे आजु के रतिया / हिया भरि देखुँ दमाद अलबेलवा रे.” बाकिर सासू करसु त का? “सासु के अँखिया लगल मधुमखिया रे/ देखहू ना पवली दमाद अलबेलवा…

बलिया में भइल काव्य आ विचार गोष्ठी

काल्हु अतवार १४ अक्टूबर का दिने बलिया के श्रीरामविहार कालोनी स्थित “पाती” पत्रिका आ विश्व भोजपुरी सम्मेलन के बलिया कार्यालय पर एगो विचार आ कवि गोष्ठी भइल. एह गोष्ठी में…

भउजी हो! सड़क छाप आदमी के सवालन के जबाब

भउजी हो! का बबुआ? तोहरा के भोजपुरी में एसएमएस भेजला पर जेल ना नू होखी? काहे बबुआ? सुननी ह कि सरकार नियम बना दिहले बिया कि मेहरारूवन के भा लड़िकियन…

भाषा, मातृभाषा आ भोजपुरी

पाती के सितम्बर २०१२ अंक प्रकाशित भइल. डाउनलोड कर के पूरा पत्रिका पढ़ीं. – डा॰ अशोक द्विवेदी भाषा ऊ हऽ जवन समय से उपजल परिस्थितियन में- हमहन के जिये आ…

दवा दुकानदारन से सरकारी रेट लिस्ट मांगीं

– आशुतोष कुमार सिंह सरकारी नियम कहेला कि हर दवा दुकानदार का लगे सरकार के दिहल सरकारी रेट लिस्ट होला आ ग्राहक दवा खरीदत घरी ऊ रेट लिस्ट केमिस्ट से…

अर्थ बा तऽ समर्थ बा ना तऽ बेअर्थ बा.

– जयंती पांडेय हम भ्रष्टाचार के भविष्य के लेके निश्चिंत बानी. ई एकदम सत्य हऽ कि खाली हमनिए के देस में भ्रष्टाचार आ भ्रष्टाचरियन खातिर तमाम संभावना आ सुविधा बा.…

जिउतिया (जीवित्पुत्रिका) : चिरंजीवी संतान के ब्रत

– रामरक्षा मिश्र विमल (-अबकी ८ अक्टूबर २०१२ के जिउतिया व्रत पड़ल बा. एह मौका पर पहिले से प्रकाशित आलेख कुछ नया चित्र का साथे दुबारा दिहल जात बा. एह…

सिविल सर्विजेस परीक्षा देबे खातिर मान्य भाषा सूची में भोजपुरी शामिल करावे के माँग

अंग्रेजी के एगो बड़हन अखबार में 3 अक्टूबर के छपल खबर, कि भोजपुरी संविधान के 8वीं अनुसूची में शामिल त हो जाई बाकिर संघ लोक सेवा आयोग से एकरा के…