डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल के डायरी जरूरी बा भोजपुरी के स्वाभिमान से जोड़ल       ओइसे त बहुत पहिले से संविधान का आठवी अनुसूची में भोजपुरी के डलवावे के माङ भोजपुरिया करत बाड़न बाकिर एने दु-एक बरिस से त जइसे बाढ़ि आ गइल बा. बहुत लोगपूरा पढ़ीं…

Advertisements

– लव कान्त सिंह बा अन्हरिया कबो त अंजोरिया कबो जिनगी में घाम बा त बदरिया कबो प्रेम रोकला से रुकी ना दुनिया से अब होला गोर से भी छोट चदरिया कबो उजर धब-धब बा कपड़ा बहुत लोग के दिल के पहचान हो जाला करिया कबो मिले आजा तू बंधनपूरा पढ़ीं…

भिखारी ठाकुर के भक्ति भावना में लोक मंगल के आयाम “भिखारी ठाकुर के भक्ति भावना में लोक मंगल के आयाम” रामदास राही के एगो निबंधात्मक पुस्तक हटे, जवना के प्रकाशन सन् 2015 में मंगला रामेश्वरा प्रकाशन, ग्राम- सेमरिया, पो. बड़हरा जिला-भोजपुर (बिहार) 802311 से भइल बा. एकर कीमत 30 रुपियापूरा पढ़ीं…

  जयशंकर प्रसाद द्विवेदी   घेंटा मिमोरत तोड़त – जोड़त आपन –आपन गायन अपने अभिनन्दन समझवनी के बेसुरा सुर बिना साज के संगीत साधना .   झाड़ झंखाड़ से भरल उबड़ खाबड़ बंजर जमीन ओकर करेजा फारत फेरु निकसत कटइली झाड़ लरछे-लरछे लटकल पाकल लाल टहक घुमची अपने गुमाने आन्हरपूरा पढ़ीं…

– रामरक्षा मिश्र विमल   जिम्मेदारी सघन बन में हेभी गाड़ी के रास्ता खुरपी आ लाठी के बल नया संसार स्वतंत्र प्रभार   जिम्मेदारी जाबल मुँह भींजल आँखि फर्ज के उपदेश आ निर्देश गोपाल के ठन ठन नपुंसक चिंतन   जिम्मेदारी तलवार के धार मित्रन के दुतरफा वार आदर्श विचारपूरा पढ़ीं…

– जयशंकर प्रसाद द्विवेदी   धधके आन्दोलन के अगिया हो , बड़भागी भोजपुरिया . पहिली दरदिया कुल्ही आइके उमड़ल नीको नेवर बतिया मनही में घुमड़ल जुड़े लगने कुल्ही सह्भागिया हो, बड़भागी भोजपुरिया .   अठवीं अनुसूची बात सुनत सुनत बीत गइल अरसा इहे गुनत गुनत खुले शायद नेतन बुद्धिया होपूरा पढ़ीं…

– लव कान्त सिंह दरद हिया के छुपा रहल बानी लोर पोंछ के मुस्का रहल बानी. कांट के बगिया में हमके फेंकल केहू बनके फूल ओजा भी फुला रहल बानी. गरहा खोनले रहस कि गिरी ओमे ई उनहीं के गरहा से बचा रहल बानी. चलs ना फेर से भाई बनलपूरा पढ़ीं…

निर्भीक संदेश ” निर्भीक संदेश” ओझा प्रकाशन, जमशेदपुर से डॉ. अजय कुमार ओझा के संपादन में प्रकाशित होखेवाली भोजपुरी-हिंदी के साहित्यिक पत्रिका हटे, जवना के प्रकाशन सन् 2003 से हो रहल बा. एकरा एक प्रति के कीमत 15/ रुपिया आउर आजीवन के 500/ रुपिया बाटे. पत्रिका अपना लघु आकार मेंपूरा पढ़ीं…

  भोजपुरिका का ओर से  नवरात्र  के बहुत-बहुत शुभकामना. माई दुर्गा का आशीर्वाद से सभ धने-जने बाढ़ो आउर प्रतिष्ठा आ सुख के प्राप्त करो.