– वैभव नाथ शर्मा मेष पिछला साल के उतार चढ़ाव का बाद अब खराब दिन बीत चुकल बा. पुरान आ लमहर दिन से लटकल भा रूकल काम से अब फायदा मिलल शुरू हो जाई. नया मकान बन सकेला भा पुरनका के कायाकल्प करे के संजोग बनि सकेला. कारोबार व्यापार धीरहींपूरा पढ़ीं…

Advertisements

आजु ज्योतिषी आ वास्तु शास्त्री पंडित वैभव नाथ शर्मा के नाम से के परिचित नइखे. एगो अइसन नाम जिनका पर देश भा विदेश के अनेको लोग के अटूट विश्वास बा. आ विश्वासो अइसन कि कवनो सांसारिक समस्या होखो.. ओकर सरल सहज आ चमत्कारी निदान चुटकी में, आ उहो कवनो बड़हनपूरा पढ़ीं…

– वैभव नाथ शर्मा मंगल दोष कुण्डली के एगो अइसन दोष ह जवन बन जाव त बड़ा अजीबोगरीब हालत हो जाले. खास कर के लड़िकियन का मामिला में अउरी बेसी. ओकनी का जिनिगी मे भा अगल बगल घटे वाला कवनो अशुभ घटना के ओकरा मंगल दोष से जोड़ दिहल जाला.पूरा पढ़ीं…

– वैभव नाथ शर्मा फगुआ भा होली वसंत ऋतु में मनावल जाये एगो महत्वपूर्ण भारतीय त्योहार ह. हिंदू पंचांग का अनुसार होली फागुन महीना के पुरनमासी के मनावल जाला. रंग के त्योहार कहल जाये वाला ई पर्व पारंपरिक रूप से दू दिन के पर्व होला. पहिला दिने, माने कि पुरनमासीपूरा पढ़ीं…

– वैभव नाथ शर्मा पशूनां पतिं पापनाशं परेशं | गजेन्द्रस्य कृत्तिं वसानं वरेण्यम् || जटाजूटमध्ये स्फुरद्गाङ्गवारिं | महादेवमेकं स्मरामि स्मरारिम् || ऐंद्रिक सुविधा से शारीरिक सुख मिलेला बाकिर अपना के ‘स्व’ का सुख में पहुंचइले बिना सभ सुख क्षणिक आ निराधार होला. अनुकूलता के सुख तुच्छ होला आ आत्मा केपूरा पढ़ीं…

– वैभव नाथ शर्मा ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ मकर संक्रान्ति हिन्दू धर्म के एगो प्रमुख पर्व ह. पूस महीना में जब सूरज मकर राशि में जालें त ओकरा के मकर संक्रांति कहल जाला आ ओहि दिने पर्व मनावल जाला. अकसरहां ई पर्व जनवरी का १३, १४, भा १५ तारीख के पड़ेला.पूरा पढ़ीं…

– वैभव नाथ शर्मा हर खगोलीय घटना के प्रभाव सम्पूर्ण सृष्टि आ ब्रह्माण्ड के पिंड ( ग्रह, राशियन) पर अवश्य पड़ेला. चाहे ऊ अल्पकालिक होखे भा दीर्घकालिक, बाकिर पड़ेला जरुर. त आईं जानल जाव कि 4 जनवरी, 2011 के सूर्य ग्रहण हमनी के राशि पर का प्रभाव डाली. 04 जनवरी,पूरा पढ़ीं…

– वैभव नाथ शर्मा ॥ श्रीकाशी विश्वनाथो विजयतेतराम् ॥ मेष व्‍यवसायिक दृष्टि से उत्तम वर्ष. व्यापार बढ़िया चली आ फायदेमंद रही. पति पत्नि में अनबन हो सकेला, अपना जीवन-साथी से सहयोग करीं आ शांत रहीं. धार्मिक काम का तरफ रुझान रही. एह साल स्वास्थ्य समस्या हो सकेला, सावधान रहीं. आमदनीपूरा पढ़ीं…