No Image

जबले हरियरी रही, कजरी गवात रही

August 12, 2016 Editor 2

– डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल चाहे शहर होखे भा गाँव आ गाँव में त अउरी, सावन के महीना आवते शुरू हो जाला लइकन के कबड्डी, खो-खो, चीका […]

Advertisements
No Image

अस्तित्व संकट से जूझत भोजपुरी बियाह गीत के परंपरा

August 12, 2013 Editor 5

– डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल एहमें कवनो संदेह नइखे कि लोकसाहित्य में लोकगीत के जगह सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण बाटे. जनजीवन में एकरा व्यापक प्रचार के […]

No Image

घर फूटे गँवार लूटे

July 2, 2011 OmPrakash Singh 7

भोजपुरी सिनेमा के मेगास्टार मनोज तिवारी, जिनका के हालही में भइल एगो सिने अवार्ड समारोह में एह दशक के सितारा कहि के सम्मानित कइल गइल […]

No Image

एक एक करके दर्जनो दुलहिन बना डलनी

October 3, 2010 OmPrakash Singh 3

– डा. उत्तमा दीक्षित, एसिस्टेंट प्रोफेसर (फैकेल्टी आफ विजुअल आर्ट्स, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय) चुनार सीमेंट फैक्टरी का परिसर में बहुते आम घर रहे हमार. चिकित्सक […]