जमशेदपुर भोजपुरी साहित्य परिषद पिछला 18 अक्टूबर के बिष्टुपुर का तुलसी भवन में साहित्य सृजन के क्षेत्र में जानल मानल आ शहर के हिन्दी आ भोजपुरी के साहित्यकार डॉ॰ बच्चन पाठक ‘सलिल‘ के अमृत महोत्सव मनावल गइल. महोत्सव में डॉ॰ बच्चन पाठक सलिल के प्रयत्न के साहित्य, सेवा, संस्कृति आपूरा पढ़ीं…

Advertisements

माननीय अध्यक्ष महोदय, आ खासमखास प्रतिनिधि लोग, आ दोस्त सभे, सबसे पहिले हम संयुक्त राष्ट्र महासभा के 69वाँ सत्र के अध्यक्ष चुनइला पर रउरा ला हृदय से बढ़िया कामना करत बानी. भारत के प्रधानमंत्री का रूप में हमरा पहिला बेर रउरा सभे के संबोधित करे ला (मिलल मौका) हमरा लापूरा पढ़ीं…

– ओेमप्रकाश अमृतांशु कविता अइसन विद्या ह जेकर उमिर दस-बीस साल ना सैकड़ो-हजारो साल होखेेेेला. जेकरा के अनपढ़ो सुन सकेला, गुनगुना सकेला. कवि के कविता के भाव में दरद, आक्रोश, प्रेम आ ढ़ेरन अभिव्यक्ति के समावेश होखेेला. कविता में नदी के जइसन बहाव होखेेला. दू-चार-दस लाइन में आपन बात कहके,पूरा पढ़ीं…

अतवार का दिने बलिया में ‘हिंदी के भेद से भाषिक अस्मिता को नुकसान’ विषय पर बोलावल गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि आइल विश्व भोजपुरी सम्मेलन के अंतर्राष्ट्रीय सचिव डॉ.अरुणेश नीरन कहलन कि हिंदी के श्रेष्ठ साहित्य लोके भाषन में रचाइल बा. कहलन कि भोजपुरी साहित्यो के हिंदीए के साहित्य मानेपूरा पढ़ीं…

पिछला दिने पटना के अम्बेडकर भवन, दारोगा राय पथ में दि बुद्धिस्ट सोसायटी ऑफ इण्डिया, अशोक फाउंडेशन, समता सैनिक दल आ अखिल भारतीय सम्राट अशोक विचार मंच का ओर से महान सम्राट अशोक के 2358वीं जयंती मनावल गइल. सम्राट अशोक के चित्र का सोझा दीया जरा केएह आयोजन के उद्धाटनपूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश अमृतांशु साहित्य समाज के आइना होखेला. साहित्य में समाज के दरद, प्रेम, वियोग के भाव समाहित रहेला. भोजपुरी कहानी कवनो भाषा से कम नइखे. प्रतिरोध के स्वर अत्यंत मुखर बा. भोजपुरी कहानी के विषय जमिन से जुड़ल आ स्पष्ट होखेला. आज के समसामयिक विषय चाहे कवनो प्रकार केपूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश अमृतांशु २१ फरवरी के दिने दुनिया अपना-अपना मातृभाषा के इयाद करेला. मातृभाषा माने माईभासा. माई के भाषा, माई के गोदी में खेलत-खात सीखल भासा, जवना में पहिला बेर माई के माई कहल सिखावल जाला. मातृभाषा का बारे में महाकवि रविन्द्रनाथ टैगोर के कहना रहल – हमनी के दूपूरा पढ़ीं…

विश्व भोजपुरी सम्मेलन के बलिया इकाई आ भोजपुरी के चर्चित पत्रिका ‘पाती’ का सहभागिता में बलिया के श्रीराम बिहार कालोनी में पाती कार्यालय का सभाकक्ष में एगो स्तरीय सरस काव्य उत्सव के आयोजन भइल. मऊ पी॰जी॰ कॉलेज के डा॰ राम निवास राय का आतिथ्य में आ डा॰ शत्रुघ्न पाण्डेय केपूरा पढ़ीं…

लता मंगेशकर आ मनोज तिवारी लाखों लोग आ नरेन्द्र मोदी का सोझा गवले ऐ मेरे वतन के लोगो मुंबई देशप्रेम के एगो नया इतिहास रचलसि जब, पिछला २७ जनवरी २०१४ का दिने, भारत रत्न लता मंगेशकर के संगे भोजपुरी मेगा स्टार मनोज तिवारी लाखो लोग आ गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्रपूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश अमृतांशु जब कवि के भाव उमड़-उमड़ के छलके लागेला त सुनेवाला लोगन के हिरदय पुलकित हो उठेला. भाषा चाहे कवनो होखे सभ्यता के पहचान ओकरा लोक भाषे से होखेला. लोक भाषा के फुलवारी जेतने हरियर आ कचनार रहेला भाव के फूल ओतने टहटहात आ गम-गमात रहेला. भलहीं भोजपुरीपूरा पढ़ीं…

28 -29 दिसम्बर, 2013 के पटना में भइल अखिल भारतीय भोजपुरी साहित्य सम्मलेन के 25 वां राष्ट्रीय अधिवेशन. एह अधिवेशन में राष्ट्रीय भोजपुरी कवि सम्मलेन के दौरान अनेके भोजपुरी कविता संग्रहन के विमोचन भइल. मंच पर भोजपुरी रचनाकारन के तीन पीढ़ी मौजूद रहे. एह में शामिल रहले भोजपुरी के युवापूरा पढ़ीं…