बिहार विधानसभा के चुनाव अबहीं टटका मुद्दा बा बाकिर घूमा फिरा के ई मुद्दा हमेशा बनल रहेला कि पत्रकार के राय कवना गोल के बा. कहे खातिर त सगरी पत्रकार हमेशा तटस्थता आ ईमानदारी के चोला भा बुरका पहिरले रहेलें बाकिर तनिका धियान दे दीं त ओह चोला भा बुरकापूरा पढ़ीं…

Advertisements

(दुनू फोटो अभिषेक भोजपुरिया के फेसबुक वाल से शशिरंजन मिश्रा के भेजल. बाँए मंच पर नेता लोग आ दाहिने करीब ओतने जनता.) आजु दिल्ली में कुछ भोजपुरी प्रेमी लोग भोजपुरी के संविधान के 8वीं अनुसूची में शामिल करावे खातिर धरना प्रदर्शन करे वाला बाड़ें. सोचनी कि काहे ना आजु एहीपूरा पढ़ीं…

पता ना हमहन भोजपुरियन के कवन कीड़ा कटले रहेला कि 8वीं अनुसूची, 8वीं अनुसूची के माला जपत रहीला. सरकार से त सभे माँगत बा बाकिर का कबो सोचले बानी जा कि भोजपुरी के हमनी का का देत बानी जा. भोजपुरी प्रेमियन के कई गो खाँचा में डालल जा सकेला. एकपूरा पढ़ीं…

आजु से बारह बरीस पहिले भोजपुरी के पहिलका वेबसाइट अंजोरिया डाॅटकाॅम के शुुरुआत भइल रहुवे. तब से आजु ले बहुते कुछ बदल गइल. नेट पर सैकड़ो वेबसाइट हो गइल बाड़ी सँ भोजपुरी के. अलग बात बा कि भोजपुरी में ना चला के ओकनी में से अधिका वेबसाइटन के हिन्दी भापूरा पढ़ीं…

– ओम प्रकाश सिंह अब एहिजा एह कहाउत के संबंध मियाँ लोग से नइखे. मियाँ के मतलब पतिदेव से, आदमी से बा. मियाँ आ बेगम के इस्तेमाल हमेशा से मरद मेहरारू खातिर होखत आइल बा आ एकरा के सेकूलर कमुनल के नजर से देखला के कवनो जरूरत नइखे. अतना सफाईपूरा पढ़ीं…

भोजपुरी में बतियाईं मत आ जे बतियावे ओकरा के गँवार बताईं. बचवन के भोजपुरी में बतियावे मत दीं. अंगरेजी में गिटिर पिटिर करीहें स त ढेर आगा जइहें सँ. भोजपुरी के कवनो किताब, पत्रिका ना त खरीदीं ना पढ़े के कोशिश करीं. काहे कि भोजपुरी पढ़ल आसान ना होला. एहसेपूरा पढ़ीं…

भोजपुरी सिनेमा जगत से जुड़ल लोग अपना अकिल के कमी डुगडुगी पीट के दुनिया के बतावत रहेले. कबो कवनो कलाकार के बालीवुड के कवनो कलाकार के नकल बतावल जाला त कबो हिन्दी के कवनो मशहूर फिलिम के नकल बनावे के एलान कइल जाला. मजे के बाति ई होला कि खुदपूरा पढ़ीं…

आजु संजय भूषण पटियाला के भेजल सामग्री मिलल त विडम्बना सजीव लउके लागल. भोजपुरी के फिलिमकारन के एगो नया शगल बन गइल बा कि काम चाहे जइसन करसु बोले में भोजपुरी के पैरोकार बने लागल बा लोग. जे लोग सुबहित नाम ना खोज सके अपना फिलिमन के, ढंग के भोजपुरीपूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश सिंह मोदी राज के 100 दिन बीतल चाहत बा आ देश के लोग परेशान बा समुझे में कि आखिर मोदी राज से मिलल का, आइल का? मोदी के माया अइसन बा कि ना कहीं घाम लउकत बा ना छाँह. छाँह खोजे वाला लोग परेशान बा कि कतहीं छाँहपूरा पढ़ीं…

रजवा के बेटिया भइली कंगरेसिया हो रामा, चोलिया पर. चोलिया पर जय हिन्द लिखवली हो रामा चोलिया पर. जानत बानी कि फगुआ के मौसम ह आ ई गीत चइता के ह. बाकिर माहौल कुछ अइसने बन गइल बा आ चरचा में देश के दू गो अइसन मॉडल आ गइल बाड़ीपूरा पढ़ीं…

अबकी के चुनाव एकहत्तर जइसन होखे वाला बा जब इन्दिरा कांगेस के टिकट प खड़ा बिजली के खंभा ले जीत गइल रहले. बाकिर सोचे वाली बात होखी कि का भाजपा का लगे अइसन बेंबत बा जे उ अपना उमीदवारन के देश के हर राज्य से जीता ले जाव? ई एगोपूरा पढ़ीं…