भारत के एक हजार साल पुरान देशज भाषा भोजपुरी अपने देश में आजु सौतेलापन के शिकार बिया. राजनेतवन आ केंद्र सरकार के अनदेखी का चलते भोजपुरी दसियन बरीस से संवैधानिक मान्यता खातिर तरसत बिया. खास त ई बा कि दुनिया के सोलह देश के 20 करोड़ से बेसी लोग के भाषा भोजपुरी के मॉरिशस में संवैधानिक मान्यता मिल चुकल बा बाकिर अपने देश में अपना जायज हक से वंचित राखल जात बा भोजपुरी के. भोजपुरी समाज दिल्ली के अध्यक्ष अजीत दुबे के कहना बा कि समृद्ध सांस्कृतिक विरासत अउर प्रचुर साहित्य वाली भोजपुरी भाषा देश में सरकारी अनदेखी के शिकार बिया. आपन निराशा जाहिर करत अजीत दूबे के कहना बा कि, संविधान के आठवीं अनुसूची में शुरूआत में 14 गो भाषा रहली स बाकिर बाद में समय-समय पर एह सूची में संशोधनों करि के सिंधी, कोंकणी, मणिपुरी, नेपाली, बोडो, डोंगरी, मैथिली आ संथाली के संवैधानिक मान्यता दे दिहल गइल बाकिर भोजपुरी के ई दर्हा देबे में आनाकानी कइल जात बा. जबकि भोजपुरी एह भाषवन से कवनो मामिला में उनइस नइखे.

अजीत दुबे कहले कि इहो अजब विडंबना बा कि संघ लोक सेवा आयोग के परीक्षा तक में अभ्यर्थियन के हिंदी-अंग्रेजी वगैरह का अलावा नेपाली आ सिंधीओ में परीक्षा आ साक्षात्कार देबे के छूट बा बाकिर भोजपुरी के ना. कहलन कि ई भोजपुरी भाषी लाखों उम्मीदवारन का साथे होखे वाला अन्याय बा. भोजपुरी भाषा के आठवीं अनुसूची में शामिल करे के लेके संसद में पन्द्रहियन बेर निजी विधेयक पेश भइल बा. विशेष ध्यानाकर्षण प्रस्तावो का जरिये एह मुद्दा के उठावल गइल बा. बाकिर सब बेनतीजा. केन्द्र सरकार से हर बेर बस आश्वासने मिल के रहि गइल बा.

आठवीं अनुसूची में अउरियो भाषा शामिल करे खातिर बनल सीताकांत महापात्र समिति जून 2004 में दिहल अपना रिपोर्ट में भोजपुरी के अनुसूची में शामिल करे के पैरवी कइले रहे. जवना का बाद केंद्रीय मंत्री शिवराज पाटिल संसद में घोषणा कइले रहले कि जल्दिये एह भाषा के संवैधानिक मान्यता दे दिहल जाई. 2006 में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री श्रीप्रकाश जायसवालो अइसने कहले रहले बाकिर सब बेमतलब निकलल. मौजूदा 15वीं लोकसभा में 30 अगस्त 2010 के ध्यानाकर्षण प्रस्ताव का जरिये अनेके पार्टियन के सांसद एह मामला में एकजुटता देखवले रहले बाकिर तबहियो सरकार से बस आश्वासने मिल के रहि गइल.

अजीत दुबे एह सरकारी रवैया के भोजपुरी भाषा खातिर ओकर तिरस्कार बतवले.


(पिछला दिने बलिया में भइल साक्षात्कार का आधार पर)

Advertisements