Rituraj

– प्रिंस रितुराज दुबे

ईहां कवनो एल्बम के गाना नइखे लिखल जात, ई एगो साच कथन मनोज तिवारी जी के एल्बम से लिहल गइल बा.

भोजपुरी, जवन पूरा दुनिया में अपना मौजूदगी के ताल ठोकत बा, ओही भोजपुरी के जनमे स्थान में हार हो गइल बा. जहाँ बिदेश में मॉरिशस के राष्ट्रीय भासा बना दिहल गइल बा भोजपुरी के, उहे आज अपना जनमे स्थान में उपेक्षित बिया. 8वीं अनुसूची में शामिल करे खाती कई साल से कोशिश कइल जाता, बाकिर राजनिति के दाँवपेच में अझुरा गइल बा ई मुद्दा. अब हमनी के ओह प्रदेश के बतकही कइल जाव जहाँ के मूल भासा ह भोजपुरी.

झारखण्ड, यूपी, बिहार माने भोजपुरी भासा-भासी प्रदेश. ईहां भोजपुरी आ भोजपुरी से संबंधित भासा उपयोग होला, भोजपुरी सबके एक साथे मिला के चलेला. हमनी के अक्सर न्यूज़ में सुनीले जे सबसे पिछड़ा अउर अशिक्षित इलाका में भोजपुरी प्रदेश के नाँव आवेला, राजस्थान, एमपी, छतीसगढ़, उतराखंड जइसन प्रदेशो एही सूची में बा.

सबसे बड़ बात ई बा कि एह के लोग आपन माईभासा के महत्व न देला. ईहां के लोग हिंदी के मातृभासा के दर्जा देला बाकिर हिंदी कवनो क्षेत्र के भासा ना ह, पूरा देस के भासा ह. एकरा पर पूरा देस के बराबर के हक बा.

भोजपुरी भास-भासी प्रदेशन में लोग भोजपुरी के बुरबक के भासा बुझेला आ कहे ला कि 8वीं अनुसूची में एकरा के नइखे शामिल कइल गइल .एही पर लोग गँवार वाला काम कर जाला. हम पूछतानी रऊआ लोग से कि आपन माई के माई कहे खातिर सरकार से पूछे के पड़ी. भासा हमनी के माई ह, आ हमनी के एकरा के छाती तान के लिखे पढ़े आ बोले बतिआवे के चाही. पढ़ल लिखल होखो चाहे अनपढ़, जादा तर लोग भोजपुरी बोले पढ़े में कतराला.

झारखण्ड, यूपी, बिहार एतना बड आबादी वाला परदेस बा एकरा बावजूदो ईहां के राजनीतिज्ञ आ नेता लोग भोजपुरी के आगे बढ़ावे के बारे में ना सोचेला. आपने देस के दोसर प्रदेशन से सीखे के चाहीं कि बंगाली, पंजाबी, गुजराती, मराठी चाहे द्रविड़ भासा के लोग आपन भासा के पाहिले महत्व देला आ बाद में हिंदी भा इंग्लिस के. तबे त एहिजा के लोग शिक्षित आ बिकास के राह पर बा. भोजपुरी, हिंदी, बंगाली जइसन आधुनिक भासो से पुरान भासा ह. एगो वेबसाइट के मध्यम से जानकारी मिलल की भोजपुरी के छोट बहिन मगही से ही बंगाली के अस्तित्व बनल बा. एही से त भोजपुरी, मगही, मैथिली आ बंगाली के शब्द मिलत जुलत लागेला. महिला समाज के आउरो जागे के पड़ी काहे से कि महिले लोग से आपन समाज पूरा होला. माई आपन बच्चा के गोदी से जवन सिखाई उहे बच्चा सीखी. अगर माई जागरूक होई तबे बच्चा जागरूक होई अऊर तबे समाजो जागरूक होई. मिला जुला के इहे बात सामने आवता कि हमनी के आपन भासा अऊर अस्तित्व के बचावे के पड़ी, तबे खुद के पहचान बनी.

पुरान में भिखारी ठाकुर आ महेंद्र मिसिर जइसन लोग भोजपुरी के बारे में सोचले त आज के दिन में मनोज तिवारी आ भरत शर्मा जइसन लोग भोजपुरी के नया मजबूती वाला खम्मा देबे में लागल बा. शायद ई कहल बाउर ना होई कि हमनी के भोजपुरी के लिपी जवन १९०० इस्वी शुरु होखे से पाहिले ओरा गइल रहे, ओकरा के फेर से उजागर करे के पड़ी. आज काल के नया नया लईका लईकी भोजपुरी बोले बतिआवे में लज़ाला लोग आ अपना माईभासा लिखे बोले में संकोच करेला.

माईभासा के जात धरम का आधार पर बा बाँटल जा सके. माईभासा समाज के आपन पहचान होले. ई सभके साथे ले के चलेले.

भोजपुरी भासा परिवार एक साथे कई गो राज्य के अपना भीतर समइले बा. 180 बरीस पहिले जब भोजपुरी भासी परदेस के लोग गरीबी का मजबूरी में गिरमिटिहा बन के बिदेस गइल बाकिर अपना बेंवत आ कर्मठता से आपन पहचान बना लिहल आ भोजपुरी के पसार दुनिया के बीसन देस में फइला दिहल. ओही लोग के मेहनत लगन आ माई भासा से प्रेम का चलते आजु कई गो देस में भोजपुरी उपभासा बिया आ एह के लोग सान से उपयोग करेला. बाकिर जहाँ से भोजपुरी जनमल ओही इलाका के लोग एकरा के पिछुआ दिहले बा.

Advertisements