बाजार के दबाव में तिल-तिल कर के मरत भोजपुरी भाषा के दुर्दशा लेके हम कुछ समय पहिले एगो उपन्यास लिखले रहीं “लोक कवि अब गाते नहीं.” इंडिया टुडे में एकर समीक्षा लिखत मशहूर भाषाविद् अरविंद कुमार तारीफ के पुल बान्हत एगो सवालो लिख दिहलन कि अगर लेखक के भोजपुरी से अतने लगाव रहुवे आ भोजपुरी के अतने चिंता बावे त ई उपन्यास भोजपुरिये में काहे ना लिखलें? हिंदी में काहे लिखलें? हमरा खातिर ई सवाल ना तमाचा रहुवे. बाकिर सवाल ई रहे कि अगर हम ई उपन्यास भोजपुरी में लिखबो करतीं त ओकरा के पढ़ीत भला के? एहू ले बड़हन सवाल रहुवे कि ओकरा के छापित के आ काहे? हम उनुका के ई बाति बतावत बहुते तकलीफ से लिखनी कि घबराईं जिन, उहो दिन दूर नइखे जब हिंदी के दुर्दशा पर कवनो उपन्यास अंगरेजी में लिखल जाव. त फेर रउरा पूछब कि ई हिंदी में काहे ना लिखाइल? अरविंदजी हमार तकलीफ समुझनी आ मननी कि ई त बा!

अइसनका में ई सवाल बहुते गूढ़ बा कि साल २०२५ में भारतीय लोक भाषावन के हालत का होई? लेकिन शायद ई दुसरका सवाल होखी. पहिला सवाल त ई होखी कि साल २०२५ में हिंदी के हालत का होई? आ फेर ओकर हैसियत का होई? अबही त आलम ई बा कि हर छठवाँ मिनट एगो हिंदीभाषी अंगरेजी बोले लागत बा. चउँकावे वाली ई बाति एंथ्रोपोलिजकल सर्वे आफ इंडिया अपना ताजा रिपोर्ट में बतवले बिया. संतोष अतने बा कि हर पाँचवा सेकेंड पर हिंदी बोले वाला एगो बच्चा पैदा हो जा ता. कहे के मतलब ई कि हिंदी बाचल रही. बाकिर सवाल ई बा कि ओकर हैसियत का रही? काहे कि ई रिपोर्ट एह बाति के तसल्ली त देत बा कि हिंदी भाषियन के आबादी हर पांच सेकेंड में बढ़त बा. लेकिन साथही इहो चुगली करत बा कि हिंदी भाषियन के आबादी बेतहाशा बढ़त बा. आ जवना परिवार में सवांग बेसी होले, ओकर दुर्दशा कइसे आ कतना होला इहो हमनी का जानत बानी. आजु के तारीख में दावा बा कि २० करोड़ से अधिका लोग भोजपुरी बोलेला. लेकिन ई आंकड़ा ह. जमीनी हकीकत एकरा से कोसों दूर बा. हकीकत ई बावे कि तमाम माँग का बावजूद आजु ले भोजपुरी संविधान के आठवीं अनुसूची नइखे आ सकल. जबकि दू अढाई लाख लोग के भाषा डोगरी भा कुछ लाख लोग के भाषा नेपाली एह अनुसूची में बाड़ी सँ.

आजु गाँवो-देहात में भोजपुरी आ अवधी जइसन भाषा बिलाइल जात बाड़ी स. लोग अंगरेजी फेंटल खड़ी बोलौ बोलत बा. “दो साल तक टॉक टाइम फ्री” आ “लाइफ टाइम प्रीपेड” जइसन विज्ञापन गाँवों में लहालोट बा. एके साथ अंगरेजी आ बाजार के दबाव अतना बेसी बा कि लोक भाषा त का हिंदी जइसन बड़हनो भाषा अपना के बचा ले जाव, इहे बहुत रही. हालांकि बाजार पर नजर डालीं आ अखबारी रिपोर्टन पर गौर करीं त पता चलत बा कि एह घरी मुंबई तक ले भोजपुरी फिलिमन के बहार बा. भोजपुरी सीडी आ कैसेटन से बाजार अटल पड़ल बा. बाकिर अश्लीलता, फूहड़ता अउर लंपटई के सगरी हद तूड़त ई फिलिम, कैसेट आ सीडी भोजपुरी के दाग लगावत ओकरा के बेमौत मारत बाड़ी सँ. हालांकि अमिताभ बच्चन जइसन लोगो भोजपुरी फिलिमन में काम करत बा, ई बतावल जात बा. अमिताभ बच्चन के कुछ फिलिम भोजपुरी में डबो भइल बा. लेकिन भोजपुरी के ई बाजारु छवि ह. सचाई त ई बा कि भोजपुरी अवधी समेत तमाम लोक भाषा एह तरह उपेक्षित बाड़ीं कि अगर इनकर तुलना करे के होखो त कहब कि अधिकतर मध्यवर्गीय घरन में जइसे बुढ़वा-बुढ़िया महटियावल आ अपमानित एगो कोना में खांसत-खंखारत बोझ बनल पड़ल रहेले, हमहन के लोको भाषा के उहे गति बा. जइसे कमजोर बूढ़ हर घड़ी अपना मौत के इंतजार करत रहेले. हमहन के लोक भाषा के हाल ओहू ले खराब बा. का पता साल २०२५ से पहिलही हमनी के लोक भाषा एक एक कर आपन प्राण छोड़त जा सँ. आ हमनी के सरकार ओहनी के बचावे खातिर परियोजना बनावत लउके. जइसे कि पाली आ संस्कृत का संगे भइल बा.

बाकिर का परियोजना भाषा बचा पावेले? आ कि सरकारी असरे भाषा बाच जाली सँ? अगर बाच सकती सँ उर्दू कबे बाच गइल रहीत. साँच त ई ह कि कवनो भाषा बाचेले त सिर्फ एह चलते कि ओकर बाजार का बा? ओकर जरूरत कतना बा? आ ओकर डिमांड कतना बा? ऊ रोजगार दे सकेले का? अगर ना त कवनो भाषा के हम आप का, केहू ना बचा सके. अगर संस्कृत, पाली आ उर्दू जइसन भाषा बेमौत मरली सँ त सिर्फ एह चलते कि ओ रोजगार आ बाजार के भाषा ना बन पवली सँ. चाहे उर्दू होखो, संस्कृत होखो भा पाली जब ले ऊ कुछ रोजगार दे सकत रहल, चलल. पाली के त अब केहू नामोलेबे वाला नइखे रहि गइल. बहुते लोग के त इहो ना जानत होखी कि पाली नाम के कवनो भाषा रहुवे. इतिहास के पन्ना के बात हो गइल पाली. लेकिन संस्कृत? ऊ पंडितन के भाषा मान लिहल गइल आ जनता छोड़ दिहलसि. एहू चलते कि ऊ बाजार में ना पहिले रहुवे ना अब कवनो उमेद रहि गइल बा. उर्दू एक समय देश के मुगलिया सल्तनत में माथे चढ़ के बोलती रहे. ओकरा बिना कवनो नौकरी मिलल मुश्किल रहुवे. जइसे आज रोजगार आ बाजार में अंगरेजी के धमक बा तब उहे धमक उर्दू के होखत रहुवे. बड़हन-बड़हन पंडित लोग तब उर्दू पढ़त-पढ़ावत रहुवे. मुगलन का बाद अंगरेज अइले त उर्दू गँवे-गँवे हाशिया पर चल गइल. फेर जइसे संस्कृत के पंडितन के भाषा मान लिहल गइल रहे, वइसहीं उर्दू मुसलमानन के भाषा मान लिहल गइल. आजु का तारीख में उत्तर प्रदेश आ आंध्र प्रदेश में राजनीतिक कारणन से वोट बैंक का फेर में उर्दू दूसरकी राजभाषा के दर्जा भलही पा गइल होखे, रोजगार के भाषा अब ऊ नइखे रहि गइल. आ ना ही बाजारे के भाषा बिया. से, उर्दूओ अब इतिहास में समात जात लउकत बिया. उर्दू बचावे खातिर राजनेता आ भाषाविद् योजना-परियोजना के बतकही करत रहेले. पुलिस थाना आ कुछ स्कूलो में मूंगफली का तरह उर्दू-उर्दू भइल. बाकिर ई नाकाफी बावे आ मरलो से बाउर बा.

हँ, हिंदी एने होश सम्हरले बिया आ होशियारी देखवले बिया. रोजगार के भाषा आजू भलही अंगरेजी होखो, बाजार के भाषा त आजुओ हिंदीए बिया. आ लागत बा कि आगहू बनल रही का, दउड़बो करी. कारण ई बा कि हिंदी विश्वविद्यालीय हिंदी के खूंटा उखाड़ दिहले बिया. शास्त्रीय हद तूड़त हिंदी अपना के बाजार में उतार लिहले बिया. आ हमनी का विज्ञापन देखत बानी कि “दो साल तक टॉक टाइम फ्री” , “लाइफ टाइम प्रीपेड”. “दिल माँगे मोर” त हमनी का कहही लागल बानी. एतने ना अंगरेजी अखबार अब हिंदी शब्दन के रोमन में लिखत आपन अंगरेजी हेडिंग बनावे लागल बाड़े. अरविंद कुमार जइसन भाषाविदो कहे लागल बाड़न कि विद्वान भाषा ना बनावसु. बाजार से भाषा बनेले. व्यापार आ संपर्क से बनेले. हिन्दी बहुते सगरी अंगरेजी, पंजाबी, कन्नड़, तमिल वगैरह शब्दन के आपन बना लिहले बिया. एहसे हिंदी के बाचल रहला के आसार त लउकत बा. बाकिर लोक भाषा सब ई लचक अबही ले नइखी देखवले सँ. गोस्वामी तुलसीदास अगर अवधी में रामचरित मानस ना लिखले रहितन त हम पूछत बानी कि आजु हौखित कहवाँ? एही तरह अगर भिखारी ठाकुर भोजपुरी में “बिदेसिया” आ “आरा हिले बलिया हिले छपरा हिले ला. हमरी लचके जब कमरिया सारा जिला हिले ला”, जइसन कुछ लोक गीत ना लिखले रहीतन त भोजपुरी कहाँ होखीत? भोजपुरी, अवधी, ब्रज, बुंदेलखंडी, मैथिली, मगही, वज्जिका, अंगिका, कन्नौजी, कुमाऊंनि, गढ़वाली, छत्तीसगढ़ी वगैरह तमाम लोक भाषा तेजी से बिलाए का राह पर बाड़ी सँ.

आजु त हालात ई बा कि लोक भाषा सभ के जवन सबले बड़हन थाती रहुल ऊ रहल संस्कार गीत आ श्रम गीत. आजु हमनी से संस्कार गीतो बिला गइल बा. शादी ब्याह में, मुंडन निकासन में तमाम अउरी सगरी मौकन पर गावल जाए वाला संस्कार गीतन के जगह अब फिल्मी पैरोडी ले लिहले बाड़ी सँ. लेडीज संगीत ले लिहले बिया. भजन आ पचरा का जगहा अश्लील फिल्मी पैरोडियन वाला भजन आ देवी गीत सुनाए लागल बा. श्रम गीत ते कब के विदा हो चुकल बा. गरज ई कि सगरी लोक भाषा लोग का ठेंगा पर आ गइल बा. त अइसना में अचरज का साल २०२५ ले लोक भाषा सभ अपना के सरिहावे खातिर भीख मांगे लागऽ सँ. निश्चिते ई हमनी के आ हमहन के समाज के सबले दुखदाई बाति होखी. ठीक वइसने जइसे कि कवनो बहुते पढ़ल-लिखल कैरियर प्रेमी लड़िका अपना महतारी के माई कहे से कतराए लागे. का त ओकर माई पढ़ल-लिखल ना हिय. ओकर फिगर ठीक नइखे. ऊ समाज में उठे-बइठे लायक नइखे. त जइसे कवनो कैरियर प्रेमी लड़िका एह कारणन से अपना महतारी के माई ना कहे आ लजाला, ठीक वइसहीं का हमनियो सभ अपना मातृभाषा का साथ आजु उहे नइखीं करत जा? मातृभाषा जवन हमनी के लोक भाषा हईं सँ. जवना के बोले-बरते से हमनी का लजात बानी जा. जियते जियत मारत बानी जा. एह पर हमनी के सोचे का चाहीं कि आखिर अइसन काहे करत बानी जा? अपना महतारी के जान काहे लेत बानी जा?

सरोकारनामा पर प्रकाशित लेख के भोजपुरी उल्था


लेखक परिचय

अपना कहानी आ उपन्यासन का मार्फत लगातार चरचा में रहे वाला दयानंद पांडेय के जन्म ३० जनवरी १९५८ के गोरखपुर जिला के बेदौली गाँव में भइल रहे. हिन्दी में एम॰ए॰ कइला से पहिलही ऊ पत्रकारिता में आ गइले. ३३ साल हो गइल बा उनका पत्रकारिता करत, उनकर उपन्यास आ कहानियन के करीब पंद्रह गो किताब प्रकाशित हो चुकल बा. एह उपन्यास “लोक कवि अब गाते नहीं” खातिर उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान उनका के प्रेमचंद सम्मान से सम्मानित कइले बा आ “एक जीनियस की विवादास्पद मौत” खातिर यशपाल सम्मान से.

वे जो हारे हुये, हारमोनियम के हजार टुकड़े, लोक कवि अब गाते नहीं, अपने-अपने युद्ध, दरकते दरवाजे, जाने-अनजाने पुल (उपन्यास, बर्फ में फंसी मछली, सुमि का स्पेस, एगो जीनियस की विवादास्पद मौत, सुंदर लड़कियों वाला शहर, बड़की दी का यक्ष प्रश्न, संवाद (कहानी संग्रह, सूरज का शिकारी (बच्चों की कहानियां, प्रेमचंद व्यक्तित्व और रचना दृष्टि (संपादित, आ सुनील गावस्कर के मशहूर किताब “माई आइडल्स” के हिन्दी अनुवाद “मेरे प्रिय खिलाड़ी” नाम से प्रकाशित. बांसगांव की मुनमुन (उपन्यास) आ हमन इश्क मस्ताना बहुतेरे (संस्मरण) जल्दिये प्रकाशित होखे वाला बा. बाकिर अबही ले भोजपुरी में कवनो किताब प्रकाशित नइखे. बाकिर उनका लेखन में भोजपुरी जनमानस हमेशा मौजूद रहल बा जवना के बानगी बा ई उपन्यास “लोक कवि अब गाते नहीं”.

दयानंद पांडेय जी के संपर्क सूत्र
5/7, डाली बाग, आफिसर्स कॉलोनी, लखनऊ.
मोबाइल नं॰ 09335233424, 09415130127
e-mail : dayanand.pandey@yahoo.com

Advertisements