adminभोजपुरी भाषा का तौर प आपन जगहा नइखे बना पावत.

भोजपुरी के धंधेबाजन के चिंता भोजपुरी के ना हो के आपन गोटी सेट करे करावे के आ दोसरा के मामर हेठ करावे ला अधिका बा.

भोजपुरी आजु सबले बेसी अपना फिलिम आ गीतन का चलते चरचा में बा आ भोजपुरी के कर्णधार एह पर चिंता ना क के अपना फेर में लागल बाड़े.

भोजपुरी जगत में तेरह कनौजिया तेरह चूल्हा वाला हाल बा. केहु अपना के दोसरा से अबर माने के तइयार नइखे. सभे अपना के सबले तेज सबले बड़हन साबित करावे मे लागल बा.

आज ले भोजपुरी मे कवनो पत्र पत्रिका अइसन ना निकलल जवन बड़हन भोजपुरिया समाज के अपना सकल होखे.

भोजपुरी के धंधाबाज अकसरहा दावा करत रहेले कि दुनिया में भोजपुरी बोले वालन के गिनिती बीस करोड़, पचीस करोड़ बा. बाकिर का सचहु ?

अगर अतना भोजपुरिया बाड़े त भोजपुरी के कवनो वेबसाइट देश दुनिया मे लोकप्रिय काहे नइखे? का ओह लोग के भोजपुरी भासा में कुछ पढ़े लिखे के मन ना करे?

कुछ विद्वान कहीहे कि चवन्नी अठन्नी छाप लोग वेबसाइट बना लेत बा त ओकरा के देखे के जाई?

अगर इ साँच बा त विद्वान लोग बढ़िया साइट काहे नइखे बनावत चलावत?

कवनो बड़का पत्र पत्रिका काहे नइखे निकलत?

भोजपुरी के टीवी चैनल काहे टूट जात बाड़ी स? जब देखे वाला ना मिली त विज्ञापन ना मिली. विज्ञापन ना मिली त खरचा कहाँ से चली? इ सवाल चैनले ला ना, पत्र पत्रिका वेबसाइट फिलिम सीडी कैसेट सबका ला बा. ना नौ मन तेल होखी ना राधा जी नचीहे. आजु जवनो पत्रिका निकलत बाड़ी स, जवनो मीडिया मौजूद बा सब कुछ बेवकूफन का चलते जे आपन टाइम खराब करत बा, आपन धन बिलावत बा, मियाँजी दुबले क्यूं, शहर के अनेसे से!

भोजपुरी के बात करे वाला लोग के समाचार, विज्ञप्ति, साक्षात्कार भोजपुरी मे ना हो के हिंदी भा अंगरेजी में काहे होखेला?

भोजपुरी से जुड़ल संस्था अपना सामरोह का बारे में भोजपुरी के वेबसाइटन के जानकारी काहे ना भेजसु?

कतना संस्था वाला जानत बाड़े कि भोजपुरी में एक ना दर्जनो वेबसाइट बाड़ी स?

कतना लोग जानत बा कि देश में कतना पत्र पत्रिका भोजपुरी में निकलत बड़ी स? साँच कहीं त हमरो जानकारी नइखे. जानकारी होखो त कइसे? केहु केहु से बतियावे के तइयार नइखे, दोसरा के बड़ाई करे ला तइयार नइखे. एह हालात में भोजपुरी का अइसहीं चलत रही?

जवाब हमरो लगे नइखे एही से पूछत बानी. बा केहू कुछ बतावे वाला?

Advertisements