अँजोरिया के हमेशा से कोशिश रहल बा कि अपना के भोजपुरी खातिर भोजपुरी में वेबसाइट बनऽवला से बेसी भोजपुरिये में सबकुछ देबे के. एही चलते अंजोरिया के तरह तरह के अध्याय पर तरह तरह के जानकारी दिहल जात रहेला. आजु का युग मे जब करीब आधा से बेसी हिन्दुस्तानी पचीस साल से कम उमिर के बाड़न तब नौकरी चाकरी भा रोजी रोजगार के मसला अलगा राखल ठीक ना होई. एही चलते अँजोरिया के एगो अध्याय नौकरीचाकरी के समर्पित बा. जहवाँ बी्च बीच में तरह तरह के बहाली का बारे में जानकारी दिहल जात रहेला. साथ ही पढ़ाई लिखाई, प्रतियोगिता परीक्षा, परीक्षा परिणामो से जुड़ल जानकारी देबे के कोशिश कइल जाला. अलगा बाति बा कि अकेला आदमी सगरो देख ना पावे. एक ओर चलेला तले दोसरका पक्ष छूटे लागेला. भोजपुरी चूंकि अबही एह लायक नइखे, पता ना कहियो बनियो पाई कि ना, कि एकरा खातिर वेतन पर कर्मचारी राखल जा सके. अपने से जतना हो सकेला करत रहीले. चाहीले कि कुछ अउरी लोग मिलित जे भोजपुरी खातिर अइसने पागल रहीत त ओह लोग का जिम्मे अलग अलग विभाग सँउप देतीं. बाकिर … जवन बाति संभव नइखे तवना खातिर सोचलो समय के बरबादी होखी.
खैर, बात से बहकला के जरूरत नइखे. स्टेट बैंक आ यूनियन बैंक आ दिल्ली मेट्रो में कुछ बहाली, कुल मिला के 6388 गो बहाली, होखे वाला बा जवना के जानकारी एहिजा दिहल गइल बा.

Advertisements