अफजाल गुरु के कांग्रेस के दामाद बतवला पर बतकुच्चन

देहरादून का एगो रैली में भाजपा अध्यक्ष नीतिन गडकरी पुछ लिहले कि का अफजाल गुरु कांग्रेस के दामाद ह जे ओकरा के साल २००५ में सुप्रीम कोर्ट का आदेश का बादो अबले फाँसी पर नइखे लटकावल जा सकल? स्वाभाविक रुप से कांग्रेस के एह बात झनझनाही के रहुवे से ऊ झनझना उठल बिया. कहले बिया कि गडकरी पागल हो गइल बाड़न आ उनका के पागलखाना भेज देबे के चाहीं. उनका से माफिओ माँगे के माँग भइल बा बाकिर गडकरी अड़ल बाड़े कि ऊ कवनो नाजायज बाति नइखन कह दिहले. जवाब कांग्रेस के देबे के बा कि पाँच साल से काहे ओकरा फाइल पर कवनो फैसला नइखे होत. वइसे हमरा त संकेत इहे लागत बा कि राष्ट्रपति ओकरा के माफी दे दिहन. काहे कि एह बीचे ऊ जतना माफी याचिका निबटवले बाड़ी ओतना कवनो राष्ट्रपति ना निबटवले रहलन आ सबके माफी देत गइल बाड़ी चाहे ऊ हत्यारा कवनो पूरा परिवारे के हत्या कर दिहले होखे. असल में अफजाल के माफी देबे खातिर जमीन तइयार कइल जा रहल बा.

प्यार में पागल वकील अपना प्रेमिका वकील के कोर्टे में गरदन काट दिहलस

कर्नाटक हाईकोर्ट में काल्हु एगो नवजवान वकील एगो नवजवान महिला वकील के सभका सामने गरदन काट दिहलस आ कई बेर छूरा भोंक दिहलस. सभे ठकुआइल देखत रहि गइल. बाद में एक आदमी चहेटलसि त ऊ हत्यारा अपना के शौचालय में बन्द कर लिहलसि. पुलिस आइल आ शौचालय के दरवाजा तूड़लसि त उहो गम्हीराहे घवाहिल मिलल. ऊ अपने गरदन काटे के कोशिश कइले रहुवे आ अपना देह पर कई बेर चाकू चलवले रहुवे. ओकरा पाकिट से जहर आ एगो सुसाईड नोट मिलल जवना में ऊ लिखले रहे कि नवीना ओकरा से बियाह करे के तइयार ना भइली त ऊ ओकर जान ले लिहलसि आ अब अपनो जान दे रहल बा.

हुर्रियत के दस पन्द्रह गो अउरी शहीदन के दरकार बा

टाइम्स आफ इण्डिया पर छपल एगो खबर में दावा कइल वा कि ओकरा लगे अइसनका सुबूत बा जवना से साबित होत बा कि हुर्रियत अपना भाड़ा के आदमियन से काश्मीर में बवाल करवा रहल बिया. ओह में हुर्रियत नेता गुलाम मोहम्मद दार के अपना एगो कार्यकर्ता शबीर अहमद के कहत बतावल जात बा कि ऊ खाली आपन तनखाह लेला कुछ करे ना. दार ओकरा से कहलसि कि अबही दस पन्द्रह गो अउरी शहीदन के दरकार बा..

आयोग तीन महीना का भीतर बसपा चुनाव चिन्ह का मामिला में फैसला देव

सुप्रीम कोर्ट चुनावे आयोग का एगो अरजी पर आयोग के निर्देश दिहलसि कि ऊ तीन महीना का भीतर एह बात के फैसला करे कि बसपा चुनाव चिह्न रद्द करे के अरजी सकारे लायक बा कि ना. आयोग जब ओह दरखास्त के विचारे लायक मान ली तब सुप्रीम कोर्ट आगा के सुनवाई शुरु करी जवना में तय कइल जाई कि राज्य सरकार के निर्देश दिहल जाव कि ना कि चुनाव आयोग के सवाल के जवाब देव.

राजद लोजपा का आह्वान पर काल्हु बिहार बन्द रही

बढ़त महँगाई का खिलाफ अपना आन्दोलन का तहत राजद लोजपा काल्हु बिहार बन्द के आह्वान कइले बा. राजद पिछला भारत बन्द में शामिल ना रहे काहे कि ओह बन्द में भाजपा शामिल रहुवे. एहसे ओह लोग के अलगा बन्द मनावल जाई.

नीतीश आपन रिपोर्ट कार्ड जारी कइलन

अपना सरकार के साढ़े चार साल का शासन का दौरान पँचवा बेर आपन रिपोर्ट कार्ड जारी करत नीतीश कहले बाड़न कि बिहार में बदलाव आ रहल बा. वइसे त सरकार हर साल २४ नवम्बर के रिपोर्ट जारी करत रहुवे बाकिर अबकी चुनावी साल होखला का चलते आचार संहिता से बचत छह महीना पहिलही आपन रिपोर्ट कार्ड जारी कर दिहले बिया. एहमें बतलावल गइल बा कि अगर बिहार के विकास दर अइसने बनल रह गइल त साल २०१५ ले बिहार के गिनती विकसित राज्यन में होखे लागी.

कपिलदेव हत्याकाण्ड में मनोज राय के गिरफ्तारी

पूर्व विधायक कपिलदेव के हत्या कइल सकारे वालन पर मऊ पुलिस दबाव डाल के बसपा नेता आ पूर्व ब्लाक प्रमुख मनोज राय के नाम लेबे के मजबूर कइलस. दुनु हत्यारोपी ई बात पुलिस का विरोध का बावजूद पत्रकारन से कहलन. पुलिस मनोज राय के गिरफ्तार कर लिहले बिया. मनोज राय के कहना बा कि उनका के मुख्तार अंसारी का इशारा पर फँसावल जा रहल बा.

१२ तारीख के होखी आरा छपरा पुल के शिलान्यास

बारह जुलाई का दिने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार छपरा किनार पर आरा छपरा पुल के शिलान्यास करीहें. एह पुल का बन गइला का बाद आरा छपरा के दूरी बहुते कम हो जाई. एह पुल के नाम बाबू वीर कुंवर सिंह का नाम पर राखल जाई. पुल के टेन्डर जारी हो चुकल बा आ ओकर लागत ५४५ करोड़ रुपिया बतावल जा रहल बा. निर्माण एही महीना से शुरु हो जाई.

बिहार आ पूर्वांचल बरखा खातिर तरसत बा

चारो तरफ हो रहल बरखा आ कई जगहा बाढ़ के खतरा का बावजूद बिहार के अधिकतर इलाका आ पूर्वांचल में बरखा एकदमे नइखे होत. गरमी आ उमस से आदमी बेहाल बा. आसमान पर किसान टकटकी लगवले बाड़न बाकिर बरखा होखे के कवनो आसार नइखे बुझात.

खेल का दुनिया से

अबकी के फीफा वर्ल्ड कप में रेफरी लोग का फैसला पर उपजल विवाद का बाद फीफा तय कइले बा कि अगिला वर्ल्ड कप में गोललाइन तकनीक के इस्तेमाल कइल जाई आ अधिकारियन के संख्या बढ़ावल जाई. काल्हु शनिचर का दिने जर्मनी आ उरुग्वे तीसरका जगहा खातिर भिड़िहें. सब छँवड़ी झूमर पाड़े त लंगड़ी कहे हमहू! अब एगो तोता भविष्यवाणी कइले बा कि फीफा का फाइनल में नीदरलैण्ड के जीत होखे वाला बा. एह जानकारी का बाद बहुते लोग सट्टा लगा रहल बा. ओने आक्टोपस बाबा के भविष्यवाणी अबही सामने नइखे आइल बाकिर उनकरो आइये जाई. तोता एगो भारतीय मूल के आदमी के ह.

Advertisements