प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वागत करत अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा. पूछलन 'केम छो मि॰ प्राइम मिनिस्टर'.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वागत करत अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा. पूछलन ‘केम छो मि॰ प्राइम मिनिस्टर’.


लोकतंत्र, आजादी, अनेकता, आ उद्यम खातिर समर्पित दू गो देश भारत आ अमेरिका का बीच बहुते कुछ समिलात बा. मानव इतिहास के हमनी दुनू देश सकारात्मक राह देखवले बानी जा आ हमनी के समिलात कोशिश, हमनी के सहज आ अनूठा जोड़ीदारी आवे वाला बहुते बरीसन ले अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा आ शान्ति बनावे में सहायता दे पाई.

अमेरिका आ भारत के बीच के संबंध न्याय आ बरोबरी खातिर हमनी के दुनू देशन के लोग के समहर इच्छा का चलते बा. साल 1893 में जब स्वामी विवेकानन्द हिन्दूत्व के वर्ल्ड रिलीजन का रूप में पेश कइलन त ई काम उ अमेरिका के शहर शिकागो में कइलन. जब मार्टिन लूथर किंग जूनियर अफ्रीकन अमेरिकन का खिलाफ होखेवाला भेदभाव आ पूर्वग्रह का खिलाफ खड़ा भइले तब ऊ भारत के महात्मा गाँधी से दिहल शिक्षा का असर में आ के कइलन. आ खुद गाँधीजी हेनरी डेविद थोरू के विचारन से आपन विचार गढ़े में सहायता लिहलन.

राष्ट्र का रूप में हमनी का अपना नागरिकन के विकास खातिर दसियन बरीसन से सहकार कइले बानी जा. भारत के लोग हमनी के सहकार के बरियार नींव के याद रखले बा. हरित क्रांति से उपजल अन्न उत्पादन में भइल बढ़ोतरी आ भारत के आईआईटी एह सहकार से मिलल परिणाम में खास बा.

आजु हमनी के जोड़ीदारी मजबूत, भरोसाजोग आ टिकाऊ बा अउर ई पसरल जात बा. हमनी के संबंध पहिलहूँ से बेसी दुतरफा सहकार देखत बा आ ई खाली संघराष्ट्र के स्तरे पर नइखे राज्य आ स्थानीय स्तर ले आ सेना, निजी उद्यम आ नागरिक समाजो ले चहुँपत बा. साँच कहीं त अतना कुछ हो चुकल बा कि साल 2000 में अटल बिहारी बाजपेयी कहले रहन कि हमनी का सहज मीत हईं जा.

एह बढ़त सहकार के कई बरीस का बाद कवनो दिने हमनी के विद्यार्थी संगे मिल के शोध करत, हमनी के वैज्ञानिक संगे मिल के बहुते आधुनिक तकनीक विकसित करे में, आ बड़का अधिकारी मिल बइठ के दुनिया के मुद्दा पर विचार करत मिल जइहें. हमहन के सेना जमीन पर, आसमान में, समुद्र में मिल जुल के अभ्यास करत रहेलें. आ धरती से मंगल ग्रह तक चहुँपावे में हमहन के अंतरिक्ष कार्यक्रम के सहभागिता त अभूतपूर्व बा. आ एह जोड़ीदारी का बीच भारतीय अमेरिकन समुदाय दुनू देशन का बीच जिन्दा आ सक्रिय पुल बन के मौजूद बा. आ एकरा मिलल सफलता हमनी दुनू देशन के लोग के जानदार संबंध, अमेरिका के खुला समाज के अमूल्यता, आ मिल के हमनी दुनू देश का कर सकीलें एह सभ के सबले साँच झलक ह.

एकरा बावजूद, हमनी के आपसी संबंध अबहियों आपन पूरा ऊँचाई ले नइखे चहुँपल. भारत में नयका सरकार संबंधन के गहराई आ पसार देबे के सहज अवसर बन के आइल बा. फेरू ताकत पवले हमहन के अभिलाषा आ बढ़ल भरोसा से हमनी का साधारण आ पारंपरिक लक्ष्य का पार जा सकीलें जा. समय आ गइल बा कि हमनी का नया एजेन्डा बनाईं जा जवना से हमनी के नागरिकन ला मजबूत फायदा चहुँप सके.

ई एजेन्डा वइसन होखी जवन दुतरफा लाभ ला व्यापार, निवेश, आ भारत के विकास के महत्वाकांक्षी एजेन्डा के समरस करे वाला तकनीक का क्षेत्र में सहकार के सहज राह खोजे आ साथही दुनिया के बढ़न्ती के इंजन का रूप में अमेरिका के अउरो स्थापित कर सके. आजु जब हमनी का वाशिंगटन में मिलब जा तब हमनी का ओह राहन का बारे में चरचा करब जा जवना से मैनूफेक्चरिंग के बढ़ावा मिलो आ फेर से नया कइल जा सके वाला उर्जा के सहज आ सुलभ बनावल जा सके, साथही हमनी के पर्यावरणो के सुरक्षो मजबूत होखो.

हमनी का चरचा करब ओह राहन का बारे में जवना से अपना बेसिक सेवा के उपलब्धता,भरोसापन आ गुण खास क के गरीब नागरिकन ला सुधारे का काम में लागल भारत आ अमेरिका बीच के व्यापार, वैज्ञानिकन आ सरकारन का बीच सहकार बढ़ सको. एह काम ला अमेरिका पूरा से तइयार बा सहयोग करे ला. एह बारे में तुरत काम करे वाला बात बा “स्वच्छ भारत” अभियान जवना ला अमेरिका अपना निजी क्षेत्र आ नागरिक समाज के नया खोज, अनुभव आ तकनीक के इस्तेमाल सगरी भारत में सफाई आ स्वच्छता खातिर करी.

अमेरिका के वाशिंगटन पोस्ट खातिर अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा आ भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साझा संपादकीय के भोजपुरी अनुवाद.


(Full text in Bhojpuri of the joint edit of Narendra Modi and Barak Obama written for Washington Post.)

Advertisements