इस साल भी सबसे ज़्यादा सुर्खियों में रहे मनोज तिवारी

हिन्दी के समानांतर खड़े भोजपुरी सिनेमा में वर्ष 2011 में भी सबसे ज़्यादा सुर्खियों में रहे भोजपुरी मेगा स्टार मनोज तिवारी. मनोज तिवारी जहां देश विदेश की मीडिया की सुर्खियां बने. वहीं इसी साल मनोज तिवारी की बड़े पर्दे पर शानदार वापसी भी हुई. उनकी फिल्में ‘इंसाफ’ तथा ‘एलान’ सुपर डुपर हिट हुईं. वे बाबा रामदेव तथा अन्ना हजारे के समर्थन में भी मंच पर दिखे. नायिकाओं में इस साल सबसे ज़्यादा सुर्खियों में रहीं नंबर वन नायिका रिंकू घोष. रिंकू घोष ने इस साल हिट पर हिट फिल्में दी. अवार्ड बटोरा तथा अपनी परंपरागत इमेज भी तोड़ी तथा कई बड़े बैनर की फिल्में भी साईन कीं तथा दर्शकों की वाहवाही भी बटोरी. रिंकू घोष को इस साल सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का भोजपुरी सिटी की तरफ से अवार्ड दिया गया. उनकी फिल्म ‘सईयां ड्राईवर बीवी खलासी’ ने दर्शकों का दिल जीता.

इसी वर्ष 2011 में भोजपुरी वर्ल्ड में हैदर काजमी जैसे दमदार अभिनेता का आगमन भी फिल्म ‘रंगबाज’ से हुआ. ‘रंगबाज’ ने लोगों को बता दिया कि स्टार से बड़ा प्रचार होता है. अगर आपका प्रचार मजबूत है तो फिल्म चलेगी और खूब चलेगी. ‘रंगबाज’ ने खूब कमाई की तथा हैदर काजमी को भोजपुरी वर्ल्ड का स्टार बना दिया.

वर्ष 2011 में भोजपुरी सुपर स्टार विनय आनंद का जादू भी चला. उन्होंने कई सफल फिल्में भी दीं. हालांकि इस साल विनय आनंद को मातृशोक का सामना भी करना पड़ा.

खलनायकों में इस साल संजय पांडे छाये रहे. उनकी फिल्में ‘ट्रक ड्राईवर’, ‘मैं नागिन तू नगीना’, ‘दुश्मनी’, ‘औलाद’ तथा ‘दिलजले’ ने उन्हें भोजपुरी सिनेजगत का प्राण बना दिया तथा हालात ये हो गये कि संजय पांडे के पास फिल्मों की लंबी कतार लग गई.

डांसिंग क्वीन सीमा सिंह का जलवा वर्ष 2011 में खूब चला. हर दूसरी फिल्म में सीमा सिंह का आयटम नम्बर पर्दे पर दिखा और सीमा का डांस तड़का भोजपुरी फिल्मों के लिए ज़रूरी मसाला बना. सीमा सिंह के आयटम नंबर ने निर्माताओं को खूब कमाई कराया.

गुंजन पंत को इस साल भोजपुरी सिटी का बेस्ट सपोर्टिंग स्टार (फीमेल) का अवार्ड मिला तथा गुंजन पंत इस साल खूब सुर्खियों में रहीं. उनकी फिल्में तो सफल रही ही, बड़े स्टारों के साथ उनकी जोड़ी भी बनी.

राजीव दिनकर ने फिल्म ‘केहू हमसे जीत ना पाई’ से अपनी लवर ब्वाय की इमेज बनायी. इसी फिल्म से रिंकू घोष का हॉट लुक देख दर्शकों में रिंकू का क्रेज भी बना. वर्ष 2011 में विकास सिंह उर्फ भोजपुरिया वीरप्पन का फिल्म ‘साजन चले ससुराल’ से बतौर मुख्य खलनायक भोजपुरी वर्ल्ड में आगाज हुआ.

वर्ष 2011 में सुशील सिंह जैसे दमदार स्टार ने ‘केहू हमसे जीत ना पाई’ तथा ‘फौलाद’ जैसी सफल फिल्म दी. इसी वर्ष आदित्य ओझा जैसे नये स्टार का उदय भी हुआ. उनकी फिल्म ‘सुगना’ ने खूब वाहवाही बटोरी.

इसी वर्ष भोजपुरी जगत में नरजिस म्यूजिक कंपनी का आगाज हुआ जिसने कई बड़ी भोजपुरी फिल्मों का संगीत अधिकार खरीदा. पंकज उदास ने इसी वर्ष फिल्म ‘मंगल फेरा’ के लिए पहली बार भोजपुरी फिल्म में गाना गाया.

वर्ष 2011 में अमिताभ बच्चन तथा मनोज तिवारी की आवाज़ में पहली बार हनुमान चालीसा रिकार्ड किया गया.


(स्रोत – शशिकान्त सिंह, रंजन सिन्हा)

Advertisements