– भोजपुरिया भईया

सिनेमा हाल खाली रे खाली… अब का बताईं… अपना देश में क्रिकेट सबसे उपर बा… जब से आइपीएल शुरू भइल बा तबसे सिनेमा हाल के रोअल शुरू भइल बा… जेह दिन मैच पड़ जा ता वोह दिन त मैटिनी, इवनिंग, अउर नाईट शो… समुझ लऽ कि खाली रे खाली… जवन सिनेमा हाल में आईपीएल के मैच देखावल जा रहल बा ओकर बजारत त बस पूछऽ मत… सुपरहिट भई.. सुपरहिट… ई वीक.. बहुते कुछ देखे के मिलल…

राज्य सरकार के बजट देखनी… पार्क स्ट्रीट के आग देखनी.. हमरा ख्याल से ओह आग पर काबू पावे खातिर ४५ गो दमकल पहुँचल रहली स,,, ओईजा जमा भइल भीड़ से एकही आवाज सुनाई देत रहे कि अपना कोलकाता के डिजेस्टर मैनेजमेंट के दस में से कतना प्वायंट दिहल जाव? एक भा दू… आ केहू केहू कहे कि निगेटिव मार्किंगो में कवनो बुराई नइखे….खैर जनता… बोले तो पब्लिक,,, ये पब्लिक है भाई पब्लिक….. सब जानती है…

हमहू कई बात जानते हैं आ मानते हैं.. आपन शहर कोलकाता में आईपीएल के चढ़ल बोखार देख के दिल इहे कहेला कि… कौन हऽ रे… के कहऽता कि आपन कंट्री गरीब हवे… अगला साल से त आठ के बदले दस गो टीञ हो जाई.. झीठऽ ललित जीयऽ… तोहार जवाब नइखे… कबो कबो त हमरा इ लागेला कि मोटर व्हेकिल डिपार्टमेंट, कोलकाता म्यूनिसिपिल कार्पोरेशन, फायर ब्रिगेड डिपार्टमेंट के प्राइवेट कई के ललित मोदी जइसन सीईओ के हाथ सौंप देवे के चाहीं… फेन इहो सोचेनी कि कहीं इ प्राइवेट सीईओ अपना के भगवान सोचे लागे त का होई… काहे कि इहो सुने में आवेला कि ललित मोदी कवनो हिटलर से कम ना हऽ…. खैर जइसन चलऽता वइसने चले के चाहीं. तबे नू कहाई कि हम इण्डियन्स की बाते कुछ अउर है…

अखबार में एगो कबर पढ़ के हमरा बहुत दुख पहुंचल रहे… कि क्लास फोर में पढ़े वाली एगो लड़की अपना क्लासमेट के जहर दे दिहलस… ई काली जेलसी के नतीजा रहल कि रियलिटी शो के काला साया…. आज तक हम ना समझ पइनी….दोस्त दोस्त का टिफीन डिब्बा में अब कइसे हाथ लगाई… हमार करेजा त इहे कहलस… ई का कइलू…दोस्ती के नाम पर दाग त देइये दिहलू… नन्हा फरिश्ता जइसन शब्दो पर प्राहर कर दिहलू…. खैर भगवान से इहे प्रेयर बा कि… अब अइसन घटना फेर कबो मत होखो… ना त कृष्ण सुदामा के एक्जाम्पलो गायब हो जाई…..

वोइसे जवन गरमी पड़ रहल बा कि बुझाता… मानो धरती से आराम शब्द गायब हो गइल बिया.. दुपहरिया के त भाई निकलल नइखे जात… शहर कोलकाता में गाँव वाली लू चलत बिया… हम कोलकाता पर कड़ा नजर राखेनी… बाकिर हावरा से लेके बर्दवान तक आ ओने सियालदह से कल्याणी ले, आ दमदम जंक्शन से बनगाँव ले… हम घूमत फिरत रहेनी… आवत जात सबका पर नजर राखेनी… नाम भोजपुरिया भईया है मेरा… मैं सबकी खबर रखता हूं…

रिसेन्टली श्यामनगर गइल रहनी.. ए भाई.. वोईजा कुछ रिक्शा चलावे वाला भाई लोग…. बड़ा गलत तरीका से रिक्शा चलावेला…. कवनो रुल ना माने… रेट त मनबे ना करे… जब जइससन तब तसन… ए भाई मान जा लोग… तनी कायदे से … लोगन ले … बहुत भरोसा बा रिक्शावालन पर… एकरा के रहे दऽ…

हम उत्तरपाड़ा के रामचरन भाई से बड़ा इम्प्रेस्ड बानी…ऊ अपना बिल्डिंग का नीचे एगो बड़हन घइला राख दिहले बाड़न… वोइजा से जे गुजरेला…. ओकरा पिये खातिर एक गिलास ठंडा पानी मिल जाला… ऊ भी फिल्टर्ड…रामचरण भईया.. राउर इ इनिशिएटिव खातिर सलाम… अगर रउवे जइसन दस आदमी अउर कई दे त मजा आ जाई…. आज हमहू अब जा तानी… नेक्स्ट हफ्ता फेर मुलाकात होखी.. तब तक खाति… टा टा बाय बाय टेक केयर…


भोजपुरिया भईया के पुरनका कोलकाता मेल

[Total: 0    Average: 0/5]
Advertisements