घुंघरू का बजते हमनी के अगल बगल के माहौल संगीत मय बनि जाला बाकिर दीपक सावंत आ अभिषेक चड्ढ़ा के फिल्म “गंगादेवी” में जब एगो अपंग, तोतला आ चुगलखोर शख्स बाकी किरदारन के आपसी संबंधन में सेंध लगावे खातिर घुंघरू के झंकार छेड़ी त भोजपुरी फिलिमन में खलनायकी के सगरी तार झनझना उठी. “ता हुदूर धुंधरु बजा ते..” के तकिया कलाम का साथ एह फिल्म के सगरी किरदारन के नाच नचावे वाला एह किरदार के नाम हऽ गिरीश शर्मा. अबले कई फिलिमन में अपना खलनायकी के तेवर देखा चुकल गिरीश शर्मा एह फिल्म में अपना जिनिगी के सबले यादगार रोल में नजर अइहे.

वइसे त एह फिल्म में दिनेशलाल यादव ‘निरहुआ’, पाखी हेगड़े, भरत शर्मा व्यास, आ बॉलीवुड के बैडमैन गुलशन ग्रोवर जइसे धुरंधर मौजूद बाड़े लेकिन खुद निर्देशक अभिषेक चड्ढ़ा के कहना बा कि ‘घुंघरूलाल’ उनुकर पसंदीदा किरदार हवे.


(रंजन सिन्हा के रपट से)

By Editor

कुछ त कहीं...

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.