भोजपुरी के गीत संगीत के मिठास सगरी दुनिया पसंद करेले. कहीं त भोजपुरी अपना गीते संगीत से जानल जाले. भोजपुरी फिलिम बजरंग हिट भइल त ओकरा संगीत संगे संगीतकार ओमो झा मशहूर हो गइलें. आजु हर ओर ओम झा के संगीत के चरचा होखत बा. पिछला दिने ओम झा से बात करे के मौका मिलल त ओह बातचीत के सार संक्षेप एहिजा पेश बा.

ओम झा सिनेमा में केहू के आपन गुरू ना मानस. कहलें कि “अकेला चला था सफ़र में………साथी मिलते चले गए “. मुंबई अइलन त सबसे पहिले संगीत सिखलन. पहिला एलबम कइलन त ओहमें कुमार सानू, शान, जसपिंदर नरूला, अनुराधा पौडवाल वगैरह गायक-गायिका रहलें बाकिर ऊ आजु ले रिलीज नाहो पावल. ओकरा बाद कल्पना अउर बाबुल सुप्रियो के हिंदी एलबम कइलन. भोजपुरी सिनेमा में डेग धराइल फिलिम “सीता” के संगीत से. एह फिलिम में कृष्णाअभिषेक आ रानी चटर्जी मुख्य कलाकार बाड़ें आ एह फिलिम के गाना “चना जोर गरम” अधिका प्रचलित भइल.
सिनेमा का अलावे ओम झा अनेके धार्मिको एलबमन में संगीत दिहले बाड़न जवना में “भगवन बनल बा नचनिया”,”जय हो बाला जी”,”मेरे नैनों में बस गए श्याम” बढ़िया साबित भइली सँ. एगो दोसर एलबम “बतवा कैसे रतिया कटी” वीनस रिलीज कइले रहे. सिनेमा भोजपुरी में “घर का चिराग”,”गौरी शंकर”,”झुमकी”,”हम है धरम योद्धा”, “बजरंग”, “लाल दुप्पटे वाली” अउर “क्षत्रिय” के संगीत दिहले बाड़न ओम झा.
बजरग फिलिम के संगीत खातिर ओक झा के बेस्ट म्यूजिक डाइरेक्टर के अवार्ड मिलल. बतवलन कि बजरग के संगीत ला बहुते संगीतकारन से बातचीत होत रहे बाकिर जब ओम झा फिलिम के टाइटल सांग “बजरग वीर जब बन जाये ” सुनवलन त उनुका के तुरते फाइनल कर लिहल गइल. एह खातिर ओक झा पवन सिंह, निर्माता जे पी सिंह, निर्देशक नंद आ पिंटू के बहुते आभार जतवलें. इहो कहलें कि बजरंग फिलिम में बुल्ली पाण्डेय के भूमिका करे वाला रमेश दुबे के सलाह बहुते काम आइल. अवार्ड दिहला खातिर ओम झा रिलायंस बिग टीवी आ ईशा टीवी के धन्यवाद दिहलें.


(भोजवुड न्यूज के रपट)

Advertisements