छपरा के कटहरी बाग महाबीर स्थान में कृष्णकुमार वैष्णवी और नूतन गुप्ता की दुलारी बेटी वैष्णवी सारण सेंन्ट्रल स्कूल में कक्षा सात की छात्रा है परन्तु अपनी अभिनय कला से वह लाखों परिवारों की दुलारी बन गयी है. अभी दस साल कि इस बाल कलाकार वैष्णवी को पढ़ाई लिखाई के साथ साथ सामाजिक सरोकारों के लिये काम करना और नृत्य तथा अभिनय में भी आनन्द आता है.

दस साल की छोटी उमर में वैष्णवी को दर्जनो पुरस्कार और सम्मान मिल चुके हैं. साल २००३ में तीन साल की उम्र में बेस्ट बेबी अवार्ड जीतने वाली वैष्णवी को साल २००७ में भोजपुरी सम्मान, साल २००८ में पूरब की बेटी सम्मान और ग्लोरी आफ बिहार अवार्ड, साल २००९ में बिहार कलाश्री सम्मान और बिहार ज्योति सम्मान, और साल २०११ में भारत ज्योति अवार्ड, बैंकाक में मिला ग्लोरी आफ इण्डिया इन्टरनेशनल अवार्ड, और भिखारी ठाकुर सम्मान खास तौर पर उल्लेखयोग्य हैं.

वैष्णवी टीवी धारावाहिक “हँसते रहो लड़ते रहो” में मुख्य भूमिका कर चुकी है. साथ ही उसके दर्जनो आडियो वीडियो अलबम रिलीज हो चुके हैं जो भोजपुरी, हिन्दी, मैथिली, अंगिका, कोटा और राजस्थानी भाषाओं में हैं.

वैष्णवी कई फिल्मों में अभिनय कर चुकी है जिनमें जै मईया अम्बे भवानी, बी ए पास बहुरिया, मैं नागिन तू नगीना और हमार देवदास प्रमुख हैं. वैष्णवी कई बन रही फिल्मों में भी काम कर रही है.

 55 total views,  2 views today

By Editor

One thought on “बाल कलाकार वैष्णवी : एक परिचय”

Comments are closed.

%d bloggers like this: