सिनेमा जगत के तीन दिग्गज शाहरुख खान, माधुरी दीक्षित और भोजपुरी फिल्मों के मेगा स्टार मनोज तिवारी खास आकर्षण रहे गोवा में चल रहे 42 वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह में.गोवा में 42वां अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह 23 नवंबर से शुरू हुआ.केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी ने दीप जलाकर कार्यक्रम का उद्घाटन किया. उन्होंने कहा कि भारतीय सिनेमा ने वैश्विक स्तर पर अपनी अलग पहचान बनाई है.भारतीय फिल्म उद्योग का उज्ज्वल भविष्य है.

गोवा के मुख्यमंत्री दिगंबर कामत ने आशा जताई मडगांव फिल्म शूटिंग का केंद्र बन जाएगा.इससे शूटिंग करना आसान होगा.उनकी सरकार फिल्म निर्माताओं को प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराएगी.इस समारोह में बेल्जियम, फिलीपींस, रूस, जापान, ईरान, आयरलैंड, कोलंबिया, इस्राइल, जर्मनी, पौलेंड, डेनमार्क, कनाडा और अफगानिस्तान की फिल्में दिखाई जाएंगी.

बॉलीवुड स्टार शाहरुख खान ने कहा कि फिल्मे कहानी सुनाने का सशक्त माध्यम है.शाहरुख खान ने आई.एफ.एफ.आई.-11 समारोह के आयोजन पर भी खुशी जताई.उन्होंने फिल्म निर्माताओं से सिनेमा के माध्यम का उपयोग कर सामंती और फासीवाद व्यवस्था के खिलाफ लड़ने की अपील की.

वहीं भोजपुरी फिल्मों के मेगास्टार मनोज तिवारी ने कहा कि ऐसे अंतराष्ट्रीय फिल्म समारोह से विभिन्न मुद्दो पर अपने विचार रखकर एक दुसरे तक पहुचने की कोशिश करते है.

समारोह में बंगाली सिनेमा की अभिनेत्री रितुपर्णा सेनगुप्ता, गोवा के मुख्य सचिव संजय श्रीवास्तव, उदयकुमार वर्मा और शंकर मोहन समेत गणमान्य लोग उपस्थित थे.फिल्मकार अडूर गोपाल कृष्ण ने कहा कि इस बार प्रेजेंटशन उम्दा स्तर का है.प्रोफेशनल हो गया है.पहले समारोह में ब्यूरोक्रेसी हावी होती दिखाई देती थी.अभिनेता जैकी श्रॉफ ने कहा कि समारोह में भारतीय फिल्म उद्योग को प्राथमिकता देना चाहिए.भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह के निदेशक शंकर मोहन ने बताया है कि इस समारोह का विषय है, वसुधैव कुटुंबकम.शंकर मोहन ने कहा कि इस समारोह में चुनिंदा कलात्मक फिल्में प्रदर्शित की जाएंगी और यह अंतरराष्ट्रीय सिनेमा जगत की सुप्रसिद्ध हस्तियों के लिए मंच प्रदान करेगा.महोत्सव के निर्णायक मंडल के अध्यक्ष प्रसिद्ध भारतीय फिल्म निर्माता निर्देशक अडूर गोपालकृष्णन हैं.निर्णायक मंडल में अमेरिका, ईरान, इस्राइल तथा कोरिया के नामी निर्देशक भी हैं.

यह समारोह भारत सरकार द्वारा गोवा राज्य सरकार और आई.एफ.एफ.आई. के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है.इसमें भारतीय सिनेमा की सर्वश्रेष्ठ फिल्में प्रदर्शित की जाएंगी.दक्षिणी सिनेमा की जानी-मानी हस्ती सुरैया समापन समारोह की शान बढ़ाएंगी.उद्घाटन समारोह में उरूमी फिल्म प्रदर्शित की जाएगी और इसमें भारतीय फिल्में जैसे रंजना अभी अर अस्बो ना, जिंदगी ना मिलेगी दोबारा और अन्य भाषा की अनेक फिल्मों के अलावा दुनिया के अनेक देशों की फिल्में दिखाई जाएंगी.

इनमें से कुछ को कान, लोकार्नो और मॉण्ट्रियल फिल्म समारोह में प्रसिद्धि प्राप्त हुई थी.समारोह में विशेष मास्टर क्लास सत्र भी आयोजित किया जाएगा.आई.एफ.एफ.आई-11 और भारतीय फिल्म जगत के लिए प्रमुख वर्ष के इस समारोह में विश्व के 65 देशों की 100 से अधिक फिल्में प्रदर्शित की जाएंगी और उनमें से कुछ फिल्में पहली बार दिखाई जाएंगी जो विश्व में इस समारोह को सर्वोत्तम बनाने की दिशा में आई.एफ.एफ.आई. की शुरुआत है.यह समारोह 3 दिसंबर, 2011 तक चलेगा.


(स्रोत – शशिकान्त सिंह, रंजन सिन्हा)

Advertisements