SanjayPandey33भोजपुरी सिनेमा के चर्चित खलपुरुष संजय पांडेय अब अपना भूमिकन के लेके बहुते संजीदा हो चलल बाड़े. पिछला दिने चांदीवली स्टूडियो में राजकुमार पांडेय के फिलिम ‘देवरा भईल दीवाना’ के सेट पर संजय पांडेय से भइल बातचीत ः

हे खलपुरुष, ‘देवरा भईल दीवाना’ में रउरा केकर बनावल खेल बिगाड़त बानी ?
नाहीं, ऊ सब एह फिलिम में अवधेश मिश्रा के नामे बा. हम त एगो नया तरह के चरित्र जीयत बानी. ई एगो कॉमिक मिक्स्ड निगेटिव शेड के कैरेक्टर ह जे परेशान त करेला बाकिर केहू के नुकसान ना करे. नामो वइसने बा हलकट पांडे. मनोज तिवारी, पाखी हेगड़े मरद मेहरारू हउवें. चिंटू (प्रदीप) मनोज जी के छोट भाई ह. बीच में अवधेशजी खलपुरुष बानी. हम नारद जी का तरह एने-ओने में अझुराइल बानी.

राजकुमार पांडेय के अधिकतर फिलिमन में रउरा रहीले ?
राजकुमार जी साथे ई हमार बारहवीं फिलिम ह. ‘कहिया डोली ले के अइबऽ’ से सिलसिला शुरू भइल. ‘दीवाना’ में हम उनका अउर करीबी भइनी आ ‘देवरा बड़ा सतावेला’ मे त उनकर पसंद के कलाकार हो गइनी. ‘सात सहेलियां’, ‘सजना के साथ मड़ईया में’, ‘लहरिया लूटऽ ए राजा जी’, ‘दुश्मनी’, ‘मैं नागिन तू नगीना’, का बाद पिछला साल ‘ट्रक ड्राईवर’, आ ‘सौगंध गंगा मईया के’ आइल. एह साल उनकर हिट फिलिम ‘जीना तेरी गली में’ के एगो खास हिस्सा हमहू रहनी. आ अब ई हलकट पांडेय.

आवेवाली फिलिमन के नाम?
‘रिहाई’, ‘कसम वर्दी के’, ‘रंग दे प्यार के रंग में’, ‘दिल भईल दीवाना तोहरा प्यार में’, ‘विराज तड़ीपार’, ‘कोठा’, ‘देस परदेस’, राजाजी आई लव यू’ वगैरह.

एह सभ में त नकारात्मक भूमिके होखी ?
अब ले त बा. लोगो हमरा के एही तरह के किरदार में देखे के आदी हो चलल बा. एहसे निर्देशको अलगा तरह के भूमिका ना देस. बाकिर अब टूटे लागल बा नकारात्मकता के सीमा. ‘बीबी नं. 1’ में हम कॉमिक टच लिहले रहीं, ‘देवरा भईल दीवाना’ में बानी, आगे लोग अब नया भूमिका देबे में हिचकिचाई ना.


(शशिकांत सिहं, रंजन सिन्हा)

Advertisements