किताबि आ पत्रिका के परिचय – 7

भिखारी ठाकुर के भक्ति भावना में लोक मंगल के आयाम

“भिखारी ठाकुर के भक्ति भावना में लोक मंगल के आयाम” रामदास राही के एगो निबंधात्मक पुस्तक हटे, जवbhikhari-thakur-ramdas-rahiना के प्रकाशन सन् 2015 में मंगला रामेश्वरा प्रकाशन, ग्राम- सेमरिया, पो. बड़हरा जिला-भोजपुर (बिहार) 802311 से भइल बा. एकर कीमत 30 रुपिया बाटे.

एह किताब में रामदास राही जी भिखारी ठाकुर का भक्ति भावना में लोक मंगल के विभिन्न आयामन के खोजे के भरपूर कोशिश कइले बानी. सनद रहे कि रामदास राही जी लोक कलाकार भिखारी ठाकुर आश्रम, कुतुबपुर, सारन(बिहार) के संस्थापक सदस्य आ मंत्री हईं.

विषय-सामग्री के देखत ई कहल जा सकऽता कि भिखारी ठाकुर पर रामदास राही जी के ई किताबि शोधार्थी लोगन खातिर निस्संदेह उपयोगी साबित होई.

– डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल

ramraksha.mishra@yahoo.com

Advertisements

Be the first to comment on "किताबि आ पत्रिका के परिचय – 7"

Leave a Reply

%d bloggers like this: