बतिया पंचे के रही बाकिर खूंटवा रहिए पर रही. आजु जब बतकुच्चन करे बइठल बानी त सामने टीवी पर अइसने कुछ बहस चलत बा. पंच त पंच महापंच के बात अनठिया देबे पर लागल बा सभे. आ हमहु एह पर बेसी कुछ ना कहब काहे कि कहल गइल बा कि जर जोरू जमीन जबरदस्त के होला. आ एहले जबरदस्त लोग के कहाँ बा. खैर, कहाउत में खूंटा के जिक्र आइल बा आ हम खूंटे से बान्ह के राखब आजु के बतकुच्चन. खूंटा, खुंटी, खूंट, खूंटल, खोंट, खटका, खुटका, खुटचाल, खुटचाली. जब अतना कुछ बा त पंच आ पंचइती में अझूरइला के जरूरते का बा?

एगो अउर कहाउत याद पड़त बा आजु. ना खेलब, ना खेले देब, खेलवे बिगाड़ब. एगो आदमी अपने खूंट से अतना खिसियाइल कि खूंट के खूंटे उखाड़ देबे के किरिया खा लिहलसि. अब एह आदमी के तुलना चाणक्य से कइल चाणक्य खातिर अपमानजनक होखी जे नंद वंश के नाश करे खातिर आपन शिखा खोल दिहले रहलें. अपने खूंट के खूटा उखाड़े खातिर खूंटा गाड़ देबे वाला एह खुटचाली के खुटचाल से अइसने नुकसान होखे के खुटका होखला का बावजूद ओकर खूंट अपना कान के खोंट साफ ना कइलसि आ ओकरा जब ले सुनाई पड़ल तबले बहुते देर हो गइल रहल. आ खेत के फसल कटइला का बाद बाच गइल बा त बस खूंटी. बड़ बूढ़ समुझावेलें कि रहरी रहरी चहेटबऽ त तहरो रहरी रहरी दउड़े के पड़ी. आ रहरी के खूंटी से भरल खेत में चहेटल कतना मुश्किल होला ई त चहेटही वाला जानेला. चलीं त चहेटल छोड़ एक बेर एक एक करके समुझल जाव.

खूंटा के मतलब समुझावे चलनी त एगो चुटकुला याद आ गइल. अंग्रेज जज़ सुनवाई करत रहुवे आ वकील साहब खूंटा के नाम ले लिहलें. जज साहब पूछलें, ह्वाट इज खूंटा? वकील साहब समुझवलें, खूंटा इज ए पीस आफ बम्बू हाफ उपर हाफ नीचा! खूंटा से जानवर बन्हालें, तम्बू तनाले, आ खूंटा गाड़ल माने कि कवनो बात के जिद्द ठान लिहल, कवनो बात पर अड़ गइल. खूंटी फसल कटला का बाद खेत में गड़ल रह जाए वाला बाचल खुंचल हिस्सा होला त दीवाल में ठोकल कवनो कील भा लकड़ीओ होला जवना पर कपड़ा झोला सामान टाँगल जाला. खूंट कहल जाला छोर के, कोना के, हिस्सा के, भा कवनो समूह के. खोंट कान में जमल गंदा के कहल जाला त खूंटल जाला कवनो चीज के बढ़ल रोकला खातिर. खेत में खर पतवार के खूंटल जाला त चना वगैरह पौधो के खूंटल जाला. एह खूंटला में ओह पौधा के निकलत मोलायम कोंपल के नोच लिहल जाला जेहसे कि उ अउर ना बढ़े बाकिर लदरा जाय. खटका भा खुटका कवनो अनेसा के, कवनो डर भा संदेह के कहल जाला. खुटचाल आ खुटचाली के मतलब त साफ बा.

बात आजु एह खूँटला का फेर में अतना लदरा गइल बा कि अब बस करत बानी. पड़ोसी के मिट्ठू तोता अपना मालिक के बात दोहरावल शुरू कर दिहले बा. जात जात अतना जरूर बतावल चाहब कि ओह तोता के अपना मालिक से अतना मोह बा कि ऊ पिंजरा खोलियो दिहला पर बाहर ना उड़ी, कह सकीलें कि ऊ उड़ले भुला गइल बा.

Advertisements