आजु जब लिखे बइठल बानी त छठ व्रत के परसाद सामने आ खरना शब्द दिमाग में बा. खरना मतलब खरो ना, कवनो तिनको ना. अइसन उपवास. बाकिर खर दुष्टो के कहल जाला. आ आखर कहल जाला उबड़ खाबड़ भा रगड़त चीझ के. अब सोचीं कि खर, खरना, आखर में कवन संबंध हो सकेला भा बनावल जा सकेला ? बतकूचन के त मतलबे इहे होला. कि बात बेबात बात निकालत चलि जाव. खर तिनका भा दुष्ट के कहल जाला जे गड़े वाला होखे, परेशान करे वाला होखे. लेकिन तिनका के का अवकात कि ऊ परेशान कर देव. ओकरा के त तुरते उधियावल जा सकेला. बाकिर तिनका का साँचहू कमजोर होला ? अगर कमजोर रहीत त फेर ई काहे कहल जाला कि डूबत के तिनका के सहारा ! कहे के मतलब कि कवनो डूबत आदमी के तनिको भा तिनको के सहारा मिल जाव त ऊ बाँचे के जुगत में लाग जाला आ कई बेर बाँचियो जाला. एह बँचला में ओह तिनका के अतने भर किरदार रहेला कि ऊ डूबत आदमी में आशा के किरन जगा देला ओकर हिम्मत बढ़ा देला. ओकरा बाद ऊ आदमी अपना बल बूता के भरसक पूरा इस्तेमाल अपना के बचावे में करे लागेला. बाकिर खर ? दुष्टवाला खर ? ओकरा त दोसरा के परेशान करे में ओकरा के नुकसान चहुँपावे के कोशिश करे के होला.

खरे से बनल एगो दोसर शब्द होला खरबिरवा. खरबिरवा मतलब जंगली खर पतवार से निकलल जड़ी बूटी जवना के इस्तेमाल रोग के इलाज में होला. खर में से खोज के निकालल बिरवा मतलब खरबिरवा. सवाल उठावल जा सकेला कि बिरवा त कोंपल के कहल जाला. त खरबिरवा के मतलब एहसे त नइखे कि खर के नया इस्तेमाल कइल बिरवा हो गंइल आ ऊ जड़ी बूटी खरबिरवा. भोजपुरी के शब्द भंडार अतना विशाल बा कि ओकर थाह लगावल आसान नइखे. शायद एकरे फायदा हम बतकूचन में भा बतकुच्चन में निकालिलें. हर हफ्ता नया कड़ी ले के आइल आसान ना रहीत अगर हर बेर कवनो दोसर शब्द समूह ना मिल जाइत बतकूचन खातिर. भोजपुरी के एगो अउरी कहाउत ह कि अपना आँखि के फूला ना लउके दोसरा आँखि के माढ़ा जरूर लउक जाला. अतना दिन से बतकूचन करत आवत बानी आ अपने मथैला पर धेयान ना गइल. धन्यवाद बा ओह सुधि भोजपुरिया विद्वान के जे हमरा के फोन पर एह तरफ धेयान दिअवलें.

एह बीच आखर पर से धेयान हट गइल रहे. आखर मतलब उबड़ खाबड़, खर खर, भा उघार जगहा के. अलग बाति बा कि बातो आखर हो सकेला बे मर मिलावट के !

Advertisements