लाजे भवहि बोलसु ना, सवादे भसुर छोड़सु ना. अब एह बाति पर भड़कला के कवनो जरूरत नइखे. ई कहाउत हमार बनावल ना ह आ जमाना से चलल आवत बा. इहो बाति नइखे कि हमरा फगुनाहट लाग गइल बा. काहे कि फागुन के आहट बतावे वाला बयार अब भेंटात नइखे प्रदूषण का मारे. अलग बाति बा कि बसंत पंचमी बीत गइल त फगुआ के माहौल बनबे करी आ बने लागल बा. बाकिर एहिजा एह बाति के संदर्भ दोसर बा.

जब केहू के भलनियति के दोसर केहू नाजायज फायदा उठावे लागे त ओह हाल में भोजपुरी के ई कहाउत बहुते सटीक बइठेला. आ एही संदर्भ में हम ई कहाउत दोहरवले रहनी ह. रोज रोज का जिनिगिओ में अइसन देखे के मिलेला कि रउरा केहू के फरमाइश पर ना ना कह पाईं आ ओकर फरमाइश जे बा से कि खतमे ना होखे. एगो फरमाइश पूरा भइल कि ना तबले दोसरका फरमाइश हाजिर बा. आ शायद एही चलते फरमाइश शब्द के जनम फरमान से भइल बा. काहे कि ई निहोरा ना होखे, निर्देश होखेला, आदेश होखेला. कहले गइल बा कि सिधवा के मुँह कूकूर चाटे. अगर रउरा ना कहे ना आवे भा ना कहे के अधिकार नइखे रउरा पाले त राउर होल पोसुआ कुकुर से बढ़िया नइखे होखे वाला. आजु का राजनीतिओ में अइसनका सिधुआ लोग के ओही तरह इस्तेमाल होखेला जइसन महाभारत में भीष्म के मार गिरावे खातिर शिखण्डी के इस्तेमाल भइल रहुवे. हालांकि महाभारत के शिखण्डीओ के मनसा उहे रहुवे कि भीष्म के मार गिरावल जाव. बाकिर आजु का राजनीति के शिखण्डीअन का लगे इहो सुविधा नइखे रहि गइल. ऊ त बस कवच बनि के रहि गइल बाड़ें. पीछे से ओठगन लगवले लोग आपन माल काटे बनावे में लागल बा आ सामने के आदमी बस कवच बनि के रहि गइल बा. ओकर त ई हाल बा कि जबरा मारबो करे आ रोवहू ना देव.

अइसहीं आजु के शुभचिन्तकनो के हाल हो गइल बा. उपर से त ऊ राउर शुभ करे के देखावा करीहें बाकिर भितरे भीतर कुछ अइसन करे में लागल रहीहें कि उनकर त शुभ हो जाई बाकिर रउरा बस चिन्तक बनि के रहि जाएब. सरकारी आफिसन में महात्मा जी के हाथ उठवले फोटुओ के इस्तेमाल कुछ लोग एहीला कर लेला कि देखत नइखऽ महात्मा जी का इशारा करत बाड़न? सोझा सोझी पाँच गो द ना त आदेश के लाठी के इन्तजार करऽ. देश समाज कार्यालय हर ठाँव पर लोग मौजूद बा जे रउरा मजबूरी के इस्तेमाल रउरा के दूहे खातिर करे ला बेचैन बाड़ें. सरकारो उनुका पर कवनो कार्रवाई करे का बदला गोदी में लईका भर गांव ढिंढोरा वाला अन्दाज में काम करे के देखावा कर लीं. देखते बानी जा कि उड़न खटोला के खरीद में भइल घपला के दोषी एहीजे तिहाड़ में पड़ल बा आ जाँच करे वाला अधिकारी एही बहाने इटली उटली के दौरा करे में लागल बाड़ें. उहो जानत बाड़ें कि होखे हवाखे के कुछ हइए नइखे काहे कि जे असल दोषी बा ओकरा तक पहुँचले ना जा सके. राजनीतिओ में माफियागिरी का तरह अमर्टा नीति के इस्तेमाल खूब होखत बा. आ जनता जे बिया कि ना, से सरकार के भवहि बनि के रहि गइल बिया. ऊ बेचारी कुछ बोल नइखे पावत आ मंत्री संत्री अपना सवादे ओकरा के छोड़े के तइयार नइखन. बस इहे जान ली. कि आजु उहे इमानदार रहि गइल बा जेकरा बेइमानी करे के मौका ना मिलल भा हिम्मत ना भइल.

Advertisements