आन्हर घुमची

 

33a जयशंकर प्रसाद द्विवेदी

 

घेंटा मिमोरत

तोड़त – जोड़त

आपन –आपन गायन

अपने अभिनन्दन

समझवनी के बेसुरा सुर

बिना साज के

संगीत साधना .

 

झाड़ झंखाड़ से भरल

उबड़ खाबड़ बंजर जमीन

ओकर करेजा फारत

फेरु निकसत

कटइली झाड़

लरछे-लरछे लटकल पाकल

लाल टहक घुमची

अपने गुमाने आन्हर

दगहिल घुमची .

 

देखलो पर

अनदेखी करत

अनासे शान बघारत

बरियारी आँख देखावत

अनेरे तिकवत

बिखियायिल मुसुकी मारत

औंधे मुँह

धूरी में सउनाइल धुमची

 

 

 

Advertisements

Be the first to comment on "आन्हर घुमची"

Leave a Reply

%d bloggers like this: