एगो अनूदित कविता – "फतिंगा"

– संतोष कुमार

अक्कितम अच्युतन नम्बूदिरी के मलयालम रचना (पुल्ककोदि) “फतिंगा” के अंगरेजी अनुवाद के भोजपुरी उल्था :

आगि में कूदि के मरे खातिर
भा आगिये खाए के लालसा में
आगि भीरी जुटान कइ के
दउडल जा रहल बाड़ें छोटहन छोटहन फतिंगा .

आगि में कूद के मरि जाए खातिर त
दुनिया में बुराई होखेला नू ?
आखिर पैदा होते कइसे
भर गइल निरासा.

खाए खातिर त इ जरत आगि
जदी तू इहे सोच रहल बाड़
त फेर निखिलेश्वर के छोड़ के
तोहरा कुछुओ कहे के नइखे .

विवेक पइदा होखे तक अब हर केहू
बिना पंख वाला बनल रहे.

Advertisements

2 Comments

Comments are closed.