DrAshokDvivedi

– डा0 अशोक द्विवेदी

हुक्मरानन का खुशी पर फेरु मिट जाई समाज
अपना अपना घर का आगा, खोन ली खाई समाज ।

कर चुकल बा आदमी तय सफर लाखन कोस के
घूम फिर के कुछ समय में, का उहें आई समाज ?

जुल्म से भा जबरजस्ती ना बसे बस्ती कहीं
बसी त फिर उजड़ जाई फेरु मुरझाई समाज ॥

राख,धूआँ, धूरि में बिलखी अगर इन्सानियत
जीत के भी राज कवनो, जीत ना पाई समाज ॥

उठल-बइठल सँगे खाइल पियल,रोवल-हँसल जे
पहिले खाई गैर के, फिर अपने के खाई समाज ॥

Advertisements