AkshayPandey

– अक्षय कुमार पाण्डेय

आन्हीं में, पानी में, जरत रहे दिया,
हिया माने ना हार, जिया ठाने ना रार –
तोंहे गीत कऽ कसम.

धीरे धीरे जमल अन्हार कुल्ह पघिल जाई
सोन किरिन आके जब धरती से मिल जाई.
चढ़ ऊपर, ऊपर चढ़, थाके ना जोर –
तोर पीठ पर पहाड़, पेट रहे ना उघार –
तोंहे गीत कऽ कसम.

गाँधी क मुरुती पर बाज एगो बइठल बा,
बगिया में अजगर फेरु आजु एगो पइठल बा,
बिहँसे दिन, फूल खिले छाँट कूस काँट –
बाँटऽ अमरित क धार, मिले भले ना दुलार –
तोंहे गीत कऽ कसम.

नइया के पेंनी में छेद हो रहल बाटे,
नदी के अरार पर सियार रो रहल बाटे,
लहरन के घात समुझ मानऽ तू बात –
हाथे ले के पतवार यार समय के सम्हार –
तोंहे गीत कऽ कसम.


संपर्क सूत्र :

ग्रा॰ पो॰ – रेवतीपुर रंजीत मोहल्ला, जिला – गाजीपुर 232328 मोबाइल – 09450720229

By Editor

One thought on “तोंहे गीत कऽ कसम”

कुछ त कहीं...

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.