– रामरक्षा मिश्र विमल

rrvimal
घर फूटेला अउरी लूटे जवार
पीटेली माई कपार
दुरगति के कवनो ना पार.

अइसन पतोह एक आङन उतरलीं
अपने ही हाथ पंख आपन कतरलीं
भाइन का बीच डालि दिहलसि दरार.

भरि गाँव बाजल बा ईजति के ढोल
नौ माह गिनती के कवनो ना मोल
हमके देखावेलन दोसर दुआर.

कवनो तकलीफ बने सुख के भँड़ार
जो लइका फइका के सुख हो अपार
ढहि जाला मउवति के भय के अरार.

चकरी का बीचे दरात बा परान
केनियो गइला पर ना बाची अब जान
धनि बा बुढ़ौती के अइसन सिंगार.

Advertisements

1 Comment

  1. भाव में बोथाइल रचना , बहुत सुन्दर लागल।
    बहुत -बहुत बधाई। ….

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.