– अशोक द्विवेदी


ओढ़नी पियर, चुनरिया हरियर / फिरु सरेहि अगराइल
जाये क बेरिया माघ हिलवलस, रितु बसन्त के आइल!

फुरसत कहाँ कि बिगड़त रिश्ता, प्रेम पियाइ बचा ले
सब, सबका पर दोस मढ़े अरु मीने-मेख निकाले
सीखे लूर नया जियला के, उल्टे बा कोहनाइल !!

क्रूर-समय का अँकवारी में, दमघोंटू संवेदन
कहाँ हिया के भावुकता के समुझे आज निठुर मन
अपना हक-हिस्सा खातिर, बा सभे आज छरियाइल !!

हानि-लाभ का गुणा-गणित में, के देखे सुघराई
पीढ़ा ऊँच भइल वैभव के, नीक लगे प्रभुताई
बजट-बसन्ती हरलस मति, मन-सुगना बा मुरछाइल!!

का बसन्त, का फागुन, सबमें भेदे-भाव समाइल
राजनीति के भंग इहाँ, हर कुँइयाँ लगे घोराइल
तबो जगावत लोकरीति के फिरु बसन्त चलि आइल !!

सखि रे रितु बसन्त के आइल !!

Advertisements

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.