– केशव मोहन पाण्डेय

Janmashtami16

जनम लिहले कन्हैया
कि बाजेला बधाईया
अँगनवा-दुअरिया नू हो।
अरे माई, दुआरा पर नाचेला पँवरिया
कि अइले दुखहरिया नू हो।।

बिहसे ला सकल जहान
कि अइले भगवान
कि होई अब बिहान नू हो।
अरे माई, हियरा में असरा बा जागल
झुमेला नगरिया नू हो।।

गरजि-चमकि मेघ बरसेले
दरस के तरसेले
मनवा में हरसे नू हो।
अरे माई, जुग-जुग जियें नंदलाल
कि आँखि के पुतरिया नू हो।।

keshav-mohan-pandey

देखि के जमुना धधा गइली
अउरी अगरा गइली
कान्ह पर लुभइली नू हो।
अरे माई, साँवरी सुरत मनभावन
हटे ना नजरिया नू हो।।

[Total: 0    Average: 0/5]
Advertisements