जब घूर के दिन फिरेला

jayanti-pandey

– जयंती पांडेय

बाबा लस्टमानंद से रामचेला पूछले, ‘बाबा हो, ई घूरो के दिन कइसे फिरेला?’
बाबा कहले, ‘जे तहरा एकर उत्पत्ति आ टीपण जाने के होखो त भोजपुरिका में बतकुच्चन करे वाला डाक्टर साहेब से सवाच ल. हम त जानत बानी कि आज के जमाना में घूर के दिन फिर गइल बा. सब नेता लोग बस झाड़ू ले के निकलता लोग आ नारा लागऽता कि ‘जहां सोच उहां शौचालय!’ सब मंत्री लोग झाड़ू ले के फोटो खींचवावता.’

अब एकरा घूर के दिन फिरल ना कहबऽ त का कहबऽ सब मंत्री लोग त घूर के दिने नू सँवारे निकलल बा. जब घूर के दिन फिरेला त नेता लोग झाड़ू के चरण स्पर्श करेला. झाड़ू ले के तरह-तरह के फोटो खातिर पोज देला.

जब घूर के दिन फिरेला त जेकर नसीब ना ठीक रहेला ओहु के हो जाला. झड़ुओ चुनाव जीत जाला. नोट आ दारू चुनाव हार जाला. झाड़ू अइसन लहराला कि बुझाला जइसे विश्वविजयी झंडा फहरा रहल बा.

अरे भाई घूर के दिन पिर जाला चाहे कहऽ नीमन हो जाला त ऊ कालीन के निचहुँ पहुँच जाला आ कालीन वाला ओकरा नीचे लुकवावेला आ कहेला कि भईवा, एहिजे आराम कर. जब घूर के दिन लवटेला त ओकरा से बिजली बने लागेला. जब कोइला के दलाली में नेता लोग दागी हो सकेला, केहु प्रधानमंत्री ना हो सके त इहो संभावना बा कि ई घूरवा कवनो दिने दलाली के विषय बन जाई.

जब घूर के दिन फिरेला त ऊ सरकार के सामने अइसे आ के खड़ा हो जाला जइसे संसद क सवाल. ऊ कवनो बड़हन शहर के डींग के हवा निकाल सकेला.

जब कोलकाता शहर कहे कि हमरा लगे फ्लाईओवर बा, माॅल बा, मेट्रो बा त इहे घूरवा पूछ सकेला कि भईया, हमहुं त बानी हर जगह.


जयंती पांडेय दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास में एम.ए. हईं आ कोलकाता, पटना, रांची, भुवनेश्वर से प्रकाशित सन्मार्ग अखबार में भोजपुरी व्यंग्य स्तंभ “लस्टम पस्टम” के नियमित लेखिका हईं. एकरा अलावे कई गो दोसरो पत्र-पत्रिकायन में हिंदी भा अंग्रेजी में आलेख प्रकाशित होत रहेला. बिहार के सिवान जिला के खुदरा गांव के बहू जयंती आजुकाल्हु कोलकाता में रहीलें.

Advertisements

Be the first to comment on "जब घूर के दिन फिरेला"

Leave a Reply

%d bloggers like this: