– जयंती पांडेय

जबसे तरह तरह के घोटाला के केस में नेता लोग दनादन जेल जाये लागल तबसे रामचेला बड़ा मायूस हो गइले. मुँह सड़ल आम अस बना लिहले आ चेहरा ओल अस लटका लिहले. बाबा लस्टमानंद के बड़ा माया लागल. लगे जा के पूछले, का हो रामचेला, बड़ा उदास लागऽतारऽ ?

रामचेला कहले, जान जा बाबा तहरा से कहऽतानी, अब हम कवनो आईडिया पर काम ना करब. एक दमे रिटायर ले लेब.

बाबा चउँकले, अरे रिटायर लेबे के कवन बाति बा, तूं नोकरिये कब कइलऽ ?

रामचेला गरमा गइले. कहले, बाबा सोच समुझ के बोलऽ. आईडिया सोचल आ ओह पर काम कइल का काम ना हऽ ? अब हम ओहू पर काम ना करब.

बाबा पूछले, कवन आईडिया रहे हो ?

सोचत रहीं कि नेता बन जाईं. कमाई के सोता फूटि जाई आ बाकी जिनिगी चैन से काट लेब. लेकिन घोटाला के नतीजा देखि के सब कुछ तियाग देवे के मन करत बा.

अरे भाई, राजनीति में त ई सब चलत रहेला, एह में मायूस ना होखे के चाहीं. आ मैदान में कतना बूढ़ बूढ़ नेता लोग जमल बा, कई लोग जेलो में बा. त ऊ लोग के कवनो फिकिर नइखे आ तूं त ऊ लोग से नया बाड़ऽ. तनि मुड़िया में के बार पाकल बा आ बाकी जवन बार बा से पाके खातिर लालायित बा. अउर तोहरा में कवन कमी बा ?

रामचेला उदास हो गइले. कहले, बाबा इहे तहरा मे एगो कमी बा, तूं हमेसा गलत समय पर गलत बात बोले लऽ. इहां बात नया जवान आ बूढ़ के नइखे. बात बा जनता के. ई जे जनता बिया नू ओकर कवन ठेकान. दक्खिन में देखऽ ए॰ राजा के का हाल हो गइल. अपने त गइबे कइले, करुणा चाचा के बेटियो के जाये के पड़ल. ऊ लोग के सब कइल धइल चउपट हो गइल.

बाबा कहले, त तूं इमानदारी से काम करीहऽ.

का कहलऽ बाबा ? ई उमिर में हम काम करब. सोचनी कि नेता बन जायेब, पइसा आ पावर दुनु रही. तनी एश क लेब, विदेश घूमि लेब. लेकिन ई सब सपना खतम हो गइल. बुझात बा कि भगवान बे बिदेशे गइले हमरा के उठा लीहें.


जयंती पांडेय दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास में एम.ए. हईं आ कोलकाता, पटना, रांची, भुवनेश्वर से प्रकाशित सन्मार्ग अखबार में भोजपुरी व्यंग्य स्तंभ “लस्टम पस्टम” के नियमित लेखिका हईं. एकरा अलावे कई गो दोसरो पत्र-पत्रिकायन में हिंदी भा अंग्रेजी में आलेख प्रकाशित होत रहेला. बिहार के सिवान जिला के खुदरा गांव के बहू जयंती आजुकाल्हु कोलकाता में रहीलें.

Advertisements