हद, हदस, हदसल, हदसावल, हदसी, हदीस, हादसा. मामिला बेहद गंभीर बा आ बतकुच्चन करे में मन हदसल बा कि पता ना कब केने से इशरत के अब्बा भा वानी के फुआ सामने आ जइहें घेर बान्ह करे खाति. से हम अपना हद में रहे के भरपूर कोशिश करब. आ कुछ कहे से पहिले इहो बता दीहल चाहब कि एह बतकुच्चन के हदीस से कवनो संबंघ नइखे. जबकि सगरी दुनिया देखत बा कि कइसे अमन के मजहब के जाहिल नालायक उपदेशक के भाषणबाजी से सगरी दुनिया में हदस पसरल जात बा आ हदसल लोग में अतना बेंवत नइखे कि ऊ लोग दिमागी रुप से जकरल एह नाईक के तीरन पर रोक लगा सके. एगो उहो समय रहल बा एह देश में जब एह आगलगवना के बोलवा के देश के अफसरान के बुद्धि सिखावल जात रहे. आजुवो एकरा पैरवीकारन के कमी नइखे. आ एही चलते हमहू हदसल बानी.
मीडिया के एगो बड़हन तबका कब गँवे से मिडिलमैन बन गइल पते ना चलल. आ अब त ई जमात खुलेआम देशद्रोहियन के दलाली करे में लाग गइल बा. दहशतगर्द हदसी के मासूम सोशल एक्टिविस्ट बना के परोसे में लागल बा ई लोग. आगलगवना के अमन के उपदेशक बतावल जात बा. खैर छोड़ीं एकरो के. लवटल जाव भाषा के हद में.
हद माने होला सीवान, अंत, सीमा. एह हद के पार जाए में मन में एगो डर उपजेला. एही डर से मन में हदस होखे लागेला कि कवनो हादसा जनि हो जाव. हादसा अचके मे भइल ओह घटना के कहल जाला जवना से जानमाल के नुकसान हो जाला. हादसा असंभावित घटना के कहल जाला जवन अचके में हो जाला. रेलवे के एगो ध्येय वाक्य हवे – सतर्कता गई, दुर्घटना भई. बाकि सतर्क ओकरा से होखल जा सकेला जवना का पाछा कवनो तर्क होखो. अतार्किक बेतुक वाला बात से सतर्क ना रहल जा सके. जब कवनो घटना होखे के संभावना बनल रहेला त ओकरा से हदस ना होखे ओकर अनेसा होला. अनेसा होखल आ हदस होखल अलग अलग तरह के भाव होला.
कुछ लोग हादसा करावेला आ अपना एह बात से लोग के हदसवले रहेला. अब जे हदस गइल से त भइल हदसल, बाकि जे हदसावल ओकरा के कहल जाव? अंगरेजी के टेररिस्ट, हिन्दी के आतंकी, आ उर्दू के दहशतगर्द ला भोजपुरी में का कहल जाव? सभे जानेला आ मानेला कि भाषा समाज के बनइबे भर ना करे ओकरा से बनबो करेले. अब सहज भाव से जिएवाला भोजपुरिया समाज अइसनकन के सोचिए ना सकल. से शब्दकोष में खोजलो पर ना मिलल एह दहशतगर्दी भा हदसवनी करेवालन खाति कवनो शब्द. हमरा समुझ से अइसनका लोग के हदसी भा हदसावन कहल सहज होखी बाकि आखिरी फैसला त समाजे के करे के बा. हम आपन सुझावे भर दे सकिलें.
आ चलत चलत बतावल जरुरी लागत बा हदीस का बारे में. हदीस इस्लाम के एगो पावन ग्रंथ, पाक किताब ह जवना में पैगम्बर साहब के जीवन आ उहां के कहनामन के जिक्र दर्ज बा. भूल चूक ला माफी माँगत आदर से प्रणाम करत बानी एह ग्रंथ के.

[Total: 0    Average: 0/5]
Advertisements