– आर्य सम्पूर्णानन्द हम लगभग बीस बरिस से पत्रकारिता के अनुभव देखत बानी. तब से अब ले पत्रकारिता में जमीन आसमान के अन्तर आ गइल बा. तब त खादी के कुरता अउरी बगल में गाँधी झोला, इहे असली पत्रकारिता के पहचान रहे. आजु जींस अउरी टॉप पहिर के वीडियो कैमरापूरा पढ़ीं…

Advertisements