गजल

March 27, 2017 Editor 1

– अशोक कुमार तिवारी हो गइल छीछिल छुछुन्नर, दिल कहाँ दरियाव बा, अब उठावे ना, गिरा देबे में सबकर चाव बा। लगल आगी रहे धनकत […]

Advertisements
No Image

हटे देश बपौती तहरे

April 30, 2015 Editor 0

– अशोक कुमार तिवारी जीए द जनता के चाहे गरदन जाँत मुआव, हटे देश बपौती तहरे जइसे मन चलावऽ. स्वास्थ सड़क शिक्षा तीनोें के धइले […]