लखनऊ से प्रकाशित होखे वाली साप्ताहिक भोजपुरी पत्रिका “भोजपुरिया अमन” के ३० दिसम्बर वाला अंक में अरूण कुमार मिश्र के एगो साक्षात्कार छपल बा. ओही साक्षात्कार के एगो टुकड़ा एहिजा दिहल जा रहल बा. आरा के कोईलवर खास में साल बासठ में जनमल अरूण कुमार मिश्र साल एकासी में पटनापूरा पढ़ीं…

Advertisements

जमशेदपुर में काल्हु से आस्था नाम के संस्था भारत सरकार का केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय, झारखंड के कला संस्कृति युवा मामला विभाग, झारखंड पुलिस एसोसिएशन, आ टाटा स्टील का सहयोग से “संबंध २०१०” नाम के एगो उत्सव शुरु भइल बा. कार्यक्रम के उद्घाटन मारीशस के राष्ट्रपति अनिरुध जगनाथ कइलें कार्यक्रमपूरा पढ़ीं…

सिर्फ एक सवाल. आज ले इहाँके (कल्पना जी के) भोजपुरी बहुत कुछ दिहलसि लेकिन इहाँके भोजपुरी खातिर का कइले बानी, जे लिखात बा की “संगीत के दुनिया के कुछ लोग के लागल कि दोसरा भाषा, दोसरा प्रान्त से आ के एगो गायिका भोजपुरी के कोकिला कइसे बन जाई ? हमनीपूरा पढ़ीं…

– आर्य संपूर्णानन्द भोजपुरी के भोजवाली पूरी समुझल केतना नादानी के काम बा, ई खाली पढ़े आ सुने वाली बाति नइखे. बहुते विचार मंथन के बाति बा. आज के माहौल के बाति अगर करीं त ठीक उहे नादानी हमरा भोजपुरिया भाई लोग आज करत बाड़े जा. ए बाति के समझेपूरा पढ़ीं…