– ओमप्रकाश अमृतांशु डहके मतरिया रे , छछनेली तिरिया, बाबुजी बांधत बाड़न, बबुआ के लाश रे, जिनिगी के जिनिका पे रहे एगो आस रे. ढरकत लोरवा के छोरवा ना लउके, भइल सवार खून माथवा पे छउंके, पारा-पारी सभेके धोआइल जाता मंगिया, बाबुजी बांधत बाड़न, बबुआ के लाश रे, जिनिगी केपूरा पढ़ीं…

Advertisements

– ओमप्रकाश अमृतांशु (माई के दिन प खास क के) माई से बढ़के ना गुरू, भगवान , माई देवी, माई दुर्गा सबसे महान. आँचरा के छईयां में दुधवा पिआइके, मुखवा निहारेली तेलवा लगाइके, कोरवा में सुखवा के होखेला बिहान. माई देवी, माई दुर्गा सबसे महान. लोरिया सुनावेली चँदा बोलाावेली, नजरिपूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश अमृतांशु लह-लह लहसेला नीमिया के गछिया, शीतल बहेला बेयार, ताहि तर मईया करेली सिंगार. सोनरा के बिटिया झूमका ले आइल, ले अइली गरवा के हार, अद्भूत रूपवा चमकेला चम-चम, टिका शोभेला लिलार, ताहि तर मईया करेली सिंगार. मालिनी बिटिया गजरा ले अइली, करेली वीनती गोहार, ओढ़उल फूलवा सेपूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश अमृतांशु कांचे कोंपलवा मड़ोड़ि दिहलस रे, इंसान रूपी गीधवा जुलूम कइलस रे. खेलत-कुदत-हँसत रहले हियरवा, अनबुझ ना जाने कुछु इहो अल्हड़पनवा, रोम-रोम रोंवां कंपकंपाई दिहलस रे, इंसान रूपी गीधवा जुलूम कइलस रे. रूहवा घवाहिल खून में सनाइल, हवसी के मनवा ना तनिको छोहाइल, डभकत जिया टभकाई दिहलस रे,पूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश अमृतांशु रुनु-झुनू, झुनू-झुनू झुनके पैजनिया. खनके कंगना . मोरी देवी अइली डुमरी के फुल हो, झुलुअवा लगावऽ अंगनवा ना. शुभ नवरात शुभे-शुभे घरी आइल, चंपा-चमेली फुल केदली फुलाइल, दवाना-मडुआव़ा के संघे खिलखिलाइल ओढउलवा ना. सोरहो सिंगार होठे भरल मुसुकान बा, दमके ला रूप जइसे भइल बिहान बा, सिरवापूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश अमृतांशु कि आरे झुरू -झुरू बहेला फगुनवा , सगुनवा लेइके बा आईल. लाल -पियर शोभेल गगनवा , धरती के चुनरी रंगाईल. {1} आमवा से अमरित टपके , चह-चह चहके चिरइयाँ. महुआ सुगंध में मातल, कुकू -कुकू कुकेले कोइलिया . कि आरे काऊँ- काऊँ करेला रे कागावा छप्परवा पेपूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश अमृतांशु हम बच्चा दिल के सच्चा  आईऽ गइलीं शरण में . हे ! विद्या के भंडारिणी , द नव कृपा कृपालिनी , बुद्धि – सद्बुद्धि कर द हमरो , हे माँ ! वीणावादिनी . तू दानी हे! वरदानी आईऽ गइलीं शरण में . हमहूँ  ज्ञानी बन पाईं, निरबल से सबल हो जाईं, बन जाईं विश्व विजेता , संकट में न घबराईं, तन – मन केपूरा पढ़ीं…