Tag: ना दरबारे ध के जाय

ना नीमन काम करे, ना दरबारे ध के जाय : बतंगड़ – 36

– ओ. पी. सिंह समाज के अनुभव इहे बा कि नीमन काम करे वाला के आए दिन मुसीबत झेले के पड़ेला. ओकरा से सभकर उमीद अतना बढ़ि जाला कि ओकर…