बिहार विधानसभा के चुनाव अबहीं टटका मुद्दा बा बाकिर घूमा फिरा के ई मुद्दा हमेशा बनल रहेला कि पत्रकार के राय कवना गोल के बा. कहे खातिर त सगरी पत्रकार हमेशा तटस्थता आ ईमानदारी के चोला भा बुरका पहिरले रहेलें बाकिर तनिका धियान दे दीं त ओह चोला भा बुरकापूरा पढ़ीं…

Advertisements

आजु से ७५ साल पहिले आजुवे का तारीख पर हिन्दी के अखबार “हिन्दुस्तान” के शुरुआत भइल रहे आ ६५ साल पहिले रामनवमी का दिने “सन्मार्ग” के. आजु दुनु अखबारन के संपादक अपना अतीत पर नजर डालत भविष्य के कवन राह चुनले बनवले बाड़न एह पर विचार कइल भोजपुरी पत्रकारितो खातिरपूरा पढ़ीं…

– आर्य सम्पूर्णानन्द हम लगभग बीस बरिस से पत्रकारिता के अनुभव देखत बानी. तब से अब ले पत्रकारिता में जमीन आसमान के अन्तर आ गइल बा. तब त खादी के कुरता अउरी बगल में गाँधी झोला, इहे असली पत्रकारिता के पहचान रहे. आजु जींस अउरी टॉप पहिर के वीडियो कैमरापूरा पढ़ीं…