भजपूरी* काहें लिखवावत बानी भाई ?

– रामरक्षा मिश्र विमल हिंदी लीखे में पानी छूटेला हमरा भजपूरी* काहें लिखवावत बानी भाई ? पग पग पर गूगल के सरन लिहींला कवनो भाषा […]

No Image

आधुनिक नारी

May 14, 2016 Editor 1

– लाल बिहारी लाल कवन भूल भइल हमसे भारी विधाता दिहल तू अइसन नारी बात-बात पर गाल बजावे कह कछुओं तS आंख देखावे कलजुग के […]

No Image

का बाँचल बा गाँव में

November 30, 2014 Editor 3

– शशि प्रेमदेव ना सनेहि के छाँव, न ममता के आँचर बा गाँव में! का जाई उहवाँ केहू अब, का बाँचल बा गाँव में? छितिर […]

No Image

भोजपुरी गीतन में फूहड़ता

August 5, 2013 Editor 1

– डॉ. रामरक्षा मिश्र विमल हम छुट्टी ना रहला का कारन गायन के गिनल-चुनल कार्यक्रम दिहींले. एहसे जहाँ गावल असहज लागी, ओहिजा पहिलहीं मना कऽ […]