लोकभाषा के काव्य आ ओकरा चर्चा पर चर्चा

February 16, 2017 Editor 0

– डॉ अशोक द्विवेदी लोकभाषा में रचल साहित्य का भाव भूमि से जुड़े आ ओकरा संवेदन-स्थिति में पहुँचे खातिर,लोके का मनोभूमि पर उतरे के परेला। […]

Advertisements

दोहा द्वादस

December 5, 2013 Editor 0

– शिवबहादुर पाण्डेय ‘प्रीतम’ छोड़ीं जनि कुदरत कबो, राखीं एकर ध्यान। नाहीं तऽ बनि आपदा, ले ली राउर जान।। बद्री आ केदार के, धाम भइल […]

भोजपुरी के सौभाग्य आ दुर्भाग्य

December 3, 2013 Editor 0

भोजपुरी के सौभाग्य बा कि एम्मे एक से एक महात्मा संत, प्रतिभाशाली राजनीतिज्ञ, विद्वान, हुनरमन्द कलाकार, वैज्ञानिक आ समाज सेवियन क लमहर कतार बा. विशाल […]