– हरेन्द्र हिमकर धरती के रग-रग में भइल राग अदिमी -अदिमी हो गइल नाग डंसलनि समाज के पोर-पोर देहिया-देहिया में लगल आग। अंगे-अंगे धहकल धिधोर धरती लिहली अॅंचरा बिटोर तब धू-धू-धू सब ओर मचल रीसे लागल अॅंखिया करोड़। राजा से रूस गइल रानी होखे लागल खींचा-तानी राजा परजा के मेलपूरा पढ़ीं…

Advertisements