कवन गीत हम गाईं बसन्ती

January 31, 2017 Editor 1

(वसन्त पंचमी, 1ली फरवरी 2017, प मंगल कामना करत) – अशोक द्विवेदी कठुआइल उछाह लोगन के, मेहराइल कन -कन कवन गीत हम गाईं बसन्ती पियरी […]

Advertisements

गलत बेख़ौफ़ घूमे घर नगर में

December 22, 2016 Editor 0

(भोजपुरी ग़जल) – सुधीर श्रीवास्तव “नीरज” जहां मे लौटि आइल जा रहल बा बचल करजा चुकावल जा रहल बा। हवस दौलत के कइसन ई समाइल […]

No Image

बाजेला बधाईया अँगनवा-दुअरिया

August 25, 2016 Editor 2

– केशव मोहन पाण्डेय जनम लिहले कन्हैया कि बाजेला बधाईया अँगनवा-दुअरिया नू हो। अरे माई, दुआरा पर नाचेला पँवरिया कि अइले दुखहरिया नू हो।। बिहसे […]

No Image

भोजपुरी, राजस्‍थानी अउर भोटी के जल्दिए मिली संवैधानिक मान्‍यता

July 27, 2016 Editor 0

पिछला सोमार 25 जुलाई, 2016 का दिने दिल्‍ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में भोजपुरी समाज, दिल्‍ली आ राजस्‍थानी भाषा मान्‍यता समिति दुनू मिल के आयोजित […]

No Image

महतारी

July 19, 2016 Editor 0

– जयशंकर प्रसाद द्विवेदी आजु निकहे बिखियाइल बानी माई बचवन पर नरियात नरियात लयिकवो मुरझा गईलें आँखिन के लोर थम्हात नइखे फेरु अझुराइल नोचब बकोटब […]

No Image

आन्हर कुकुर बतासे भूंके

July 3, 2016 Editor 0

– जयशंकर प्रसाद द्विवेदी टीभी के परिचरिचा देखs अस लागे, गोंइठा घी सोखे। आन्हर कुकुर बतासे भूंके।। मिलत जुलत सभही गरियावत पगुरी करत सभे भरमावत […]

No Image

आरा गान

June 9, 2016 Editor 0

– शिवानन्द मिश्र रामजी के प्यारा ह, कृष्ण के दुलारा ह, बाबा विसवामीतर के आंखी के तारा ह। बोले में खारा ह, तनीकी अवारा ह, […]

No Image

हेराइल आपन गाँव

April 30, 2016 Editor 0

– जयशंकर प्रसाद द्विवेदी कोइला से पटरी पचरल ले के शीशी घोटल सांझी खानि घरे मे माई ले रगड़ के मुंहो पोछल बा के इहवाँ […]

No Image

चैन लगे बेचैन (उलटन)

April 26, 2016 Editor 0

– अशोक द्विवेदी ना जुड़वावे नीर जुड़-छँहियो में, बहुत उमस लागे. चैन लगे बेचैन, देश में बरिसत रस नीरस लागे! बुधि, बल, बेंवत, चाकर… पद, […]

No Image

फगुनवा मे

March 22, 2016 Editor 0

– जयशंकर प्रसाद द्विवेदी बियहल तिरिया के मातल नयनवा, फगुनवा में ॥ पियवा करवलस ना गवनवां, फगुनवा में ॥ सगरी सहेलिया कुल्हि भुलनी नइहरा । […]

No Image

फागुन बाट ना जोहे

March 16, 2016 Editor 0

– अशोक द्विवेदी फागुन बाट ना जोहे, बेरा प’ खुद हाजिर हो जाला. रउवा रुचेभा ना रुचे, ऊ गुदरवला से बाज ना आवे. एही से […]

No Image

गजल

March 7, 2016 Editor 0

– अशोक द्विवेदी आपन भाषा आपन गाँव, सुबहित मिलल न अबले ठाँव । दउरत-हाँफत,जरत घाम में, जोहीं रोज पसर भर छाँव । जिनिगी जुआ भइल […]

No Image

भोजपुरी के संविधान के अठवीं अनुसूची में शामिल करावे ला धरना

February 20, 2016 Editor 0

काल्हु 21 फ़रवरी 2016, अतवार का दिने नई दिल्ली के जन्तर मंतर पर धरना दे के भोजपुरिया लोग सरकार पर दबाव बनाई. भोजपुरी दुनिया के […]

No Image

पूर्वोत्तर आ उत्तरभारतीय भाषा के प्रतिनिधि लेखकन के सम्मिलन में भोजपुरी

February 5, 2016 Editor 0

सरकार आ संसद में मातृभाषा भोजपुरी के मान मान्यता मिले एकरा से पहिले देश के साहित्य अकादमी आ भाषा साहित्य से जुड़ल अउर बड़ संस्था […]