भोजपुरी के नेही-छोही लोगन खातिर मैथिली-भोजपुरी अकादमी के एगो नेवता.    पूरा पढ़ीं…

दिल्ली सरकार के मैथिली.भोजपुरी अकादमी 11 जनवरी का दिने दिल्‍ली के मंडी हाउस का फिक्‍की सभागार में गणतंत्र दिवस कवि सम्‍मेलन आयोजित कइलस जवना में दिल्ली आ बाहरो से आइल कवि लोग अपना कविता के पाठ कइल. उद्घाटन दिल्ली सरकार के कला संस्‍कृति एवं भाषा विभाग के सचिव का हाथेपूरा पढ़ीं…

– ओेमप्रकाश अमृतांशु कविता अइसन विद्या ह जेकर उमिर दस-बीस साल ना सैकड़ो-हजारो साल होखेेेेला. जेकरा के अनपढ़ो सुन सकेला, गुनगुना सकेला. कवि के कविता के भाव में दरद, आक्रोश, प्रेम आ ढ़ेरन अभिव्यक्ति के समावेश होखेेला. कविता में नदी के जइसन बहाव होखेेला. दू-चार-दस लाइन में आपन बात कहके,पूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश अमृतांशु २१ फरवरी के दिने दुनिया अपना-अपना मातृभाषा के इयाद करेला. मातृभाषा माने माईभासा. माई के भाषा, माई के गोदी में खेलत-खात सीखल भासा, जवना में पहिला बेर माई के माई कहल सिखावल जाला. मातृभाषा का बारे में महाकवि रविन्द्रनाथ टैगोर के कहना रहल – हमनी के दूपूरा पढ़ीं…

– ओमप्रकाश अमृतांशु 10 अगस्त 2013 सांझ 5 बजे से श्रीराम भारतीय कला केन्द्र दिल्ली में कविता के भाव गूंजे लागल. कार्यक्रम स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य मे होखत रहे. ताली के गडगडाहट आ वाह-वाह करत, सुनेवाला लोगन के मुंह ना थाकत रहे. कविओ लोग जोश में कविता सुनावे से पाछापूरा पढ़ीं…

‍- सान्त्वना दिल्ली सरकार के मैथिली भोजपुरी अकादमी ३ नवंबर से ६ नवंबर ले रवीन्द्र भवन, मंढी हाउस, के कौस्तुभ सभागार में चार दिन के संगोष्ठी आयोजित कइलस. एह स्तरीय आ सार्थक आयोजन में शामिल भोजपुरि मैथिली साहित्य प्रेमियन आ साहित्यकारन के उछाह देखि के लागल कि अकादमी अपना पिछलापूरा पढ़ीं…