सावन -सिसक गइल बा

August 6, 2017 Editor 0

– डॉ राधेश्याम केसरी ढहल दलानी अब त सउँसे, पुरवइया क झांटा मारे, सनसनात ठंढा झोका से, देहिया काँप गइल बा। मेजुका-रेवां गली- गली में, […]

माई

April 7, 2017 Editor 0

– डॉ राधेश्याम केसरी हमरे से खनदान पटल बा, जिनिगी से जज्बात जुड़ल बा हम हमार, घर दुअरा खातिर सबसे पहिले तोहरा खातिर उठ खटिया […]

केतना बदल गइल संसार

March 24, 2017 Editor 0

– डॉ राधेश्याम केसरी केतना बदल गइल संसार, कतहुँ नइखे अब त प्यार। खाली लाभ के खातिर, झूठे बनल बनवटी प्यार। बचवन के फुटपाथे असरा, […]

आइल गरमी

March 18, 2017 Editor 0

– डॉ राधेश्याम केसरी सूरज खड़ा कपारे आइल,गर्मी में मनवा अकुलाइल। दुपहरिया में छाता तनले,बबूर खड़े सीवान। टहनी,टहनी बया चिरईया, डल्ले रहे मचान। उ बबूर […]

बसंत प दू गो कविता

February 27, 2017 Editor 1

– डॉ राधेश्याम केसरी 1) आइल बसंत फगुआसल सगरी टहनियां प लाली छोपाइल, पछुआ पवनवा से अंखिया तोपाइल, देहिया हवे अगरासल, आइल बसन्त फगुआसल। कोयल […]